पूर्णिया:कृषि महाविद्यालय एक दिवसीय शैक्षणिक भ्रमण कार्यक्रम आयोजन

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया
पूर्णिया/बिहार:स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिप अन्तर्गत महाविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाइ के प्रभारी डा॰ पंकज कुमार यादव की देख रेख में महाविद्यालय आये आर के पब्लिक स्कूल, पूर्णिया  की 130 छात्र-छात्राओं के साथ 8 शिक्षकों का दल द्वारा एक दिवसीय शैक्षणिक भ्रमण कार्यक्रम के अन्तर्गत भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, का भ्रमण कराया गया।

साथ ही साथ निकाली गयी स्वछता जागरुकता रैली का आयोजन भी किया गया। इस दल के साथ कुल 50 छात्राएं एवं 80 छात्रों के साथ 8 शिक्षकों के द्वारा एक दिवसीय शैक्षणिक भ्रमण के दौरान छात्र एवं छात्राओं के कृषि की तकनीकी ज्ञान प्राप्त किया। इस अवसर पर स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिप अन्तर्गत कृषि महाविद्यालय ने शैक्षणिक भ्रमण  पर  आए छात्र/छात्राओं को    स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिप अन्तर्गत 100 घंटे स्वच्छता कार्य हेतु के बारे मे भी विस्तृत जानकारी प्रदान की ।

साथ ही साथ कृषि महाविद्यालय के स्नातक प्रथम वर्ष के छात्र-छा़त्राओं द्वारा आर0 के0 पब्लिक स्कूल, पूर्णियाँ  की 130 छात्र-छात्राओं के साथ महाविद्यालय से पोपुरिया गाँव तक स्वछता जागरुकता रैली निकाल कर ग्रामीण नागरिकों को जागरुक करने का कार्य किया। पोपुरिया गाँव का चयन महाविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाई द्वारा स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिप हेतु चयनित किया गया है, जिसमें स्नातक प्रथम वर्ष के राष्ट्रीय सेवा योजना स्वयं सेवक सुमित कुमार अग्रवाल, विवेक कुमार, रीशू कुमार, शिव शंकर, रोशन, कुमार, सुधीर कुमार, विनोद कुमार, सोनू कुमार, प्रवीण कुमार एवं शशी भूषण इत्यादि पोपुरिया गाँव तक स्वछता जागरुकता रैली में सम्मिलित हुए तथा स्वच्छता से संबंघित जानकारी प्रदान की।

इससे पूर्व प्राचार्य द्वारा आर0 के0 पब्लिक स्कूल, पूर्णियाँ के छात्र-छात्राओं को स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने हेतु संदेश दिया।  अपने संबोधन में छात्र/छात्राओं को बताया कि भारत एक कृषि प्रधान देश है इस देश के किसान भारत के जान है जिन्हें हम अनदाता के नाम से जानते है। भारत ही नहीं दुनियाँ के बहुत सारे देशों में आज भी खेती और पशुपालन ही सबसे ज्यादा रोजगार देने वाले क्षेत्र है। ग्रामीण अर्थव्यवस्था में पशुपालन एक फिक्स डिपोजिट पूंजी के तरह किसान के पास उपलब्ध रहता है, जिसे किसान जब चाहे बेच कर लाभ प्राप्त कर सकता है। महात्मा गाँधी नें खेती और पशुपालन को एक साथ जोड़कर देखने का सुझाव दिया था। इस महाविद्यालय की स्थापना बिहार के तीन बार मुख्य मंत्री रहे स्व॰ भोला पासवान शास्त्री के नाम पर बिहार के वर्तमान मुख्यमंत्री माननीय श्री नितीश कुमार द्वारा वर्ष 2010 में किया गया था।

इस अवसर पर मृदा वैज्ञानिक एवं राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाइ के प्रभारी ड़ा. पंकज कुमार यादव ने  छात्राओं को कम्प्युटर लैब, विभिन्न प्रयोगशालाएं, पुस्तकालय, राष्ट्रीय सेवा योजना तथा अन्य गतिविधियों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने बताया कि कृषि के पढ़ाई के क्षेत्र में अपार संभावनाएं छिपी हुई है। कृषि स्नातक प्रवेश हेतु प्रतियोगिता परीक्षा का आयोजन बिहार सरकार कराती है जिसे बिहार संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा के नाम से जाना जाता है।

वैज्ञानिक श्री एस0 पी0 सिन्हा ने छात्र छात्राओं को बताया कि खाद्यान उत्पादन बढ़ाना आज के समय की मांग है जिसके लिए प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रुप से किसानों की  कड़ी मेहनत के द्वारा ही संभव है। एक दिवसीय शैक्षणिक भ्रमण कार्यक्रम आर0 के0 पब्लिक स्कूल, पूर्णियाँ  की छात्र एवं छात्राओं  के दल का नेतृत्व प्रधानाध्यापक श्री एन के विश्वास द्वारा किया गया तथा स्वछता जागरुकता रैली में विद्यालय के अन्य शिक्षक श्री अर्जुन कुमार, पप्पु बोस, मुन्ना कुमार यादव एवं शिक्षिकाएँ सुश्री कोमल कुमारी, दीप्ती, मोना, चाँदनी एंव आजरा आदि ने सक्रिय सहयोग प्रदान किया।

इस अवसर पर महाविद्यालय के अन्य वैज्ञानिक डा॰ पारस नाथ, डा॰ जे एन श्रीवास्तव, डा॰ जनार्दन प्रसाद, डा॰ पंकज कुमार यादव, डा॰ अनिल कुमार, श्री जे0 पी0 प्रसाद, डा0 तपन गोराई, श्री एस॰ पी॰ सिन्हा एवं डा0 रूबी साहा  के साथ कर्मचारियों में श्री उमेश कुमार, नवीन लकड़ा आदि की सहभागिता रही।

(Visited 26 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *