किसान खेती की पुरानी पद्धति को छोड़ उन्नत वैज्ञानिक पद्धति से करें खेती: रामजीवन प्रसाद 

प्रियांशु आनंद/पुर्णिया

पुर्णिया/बिहार :बुधवार को कसबा कृषि भवन में आत्मा के बैनर तले प्रखंड स्तरीय खरीफ महाअभियान कार्यक्रम का आयोजन किया गया।जिसमें किसानों के हित की बातों की जानकारी दी गयी।

सहायक जिला कृषि पदाधिकारी रामजीवन प्रसाद ने किसानों से कहा कि भारत की 70 फीसदी आबादी की मुख्य जीविका का साधन कृषि है, इसलिए बिना किसानों के विकास के भारत का विकास मुश्किल है और किसानों का विकास तभी हो सकता है, जब किसान खेती की पुरानी पद्धति को छोड़ उन्नत तथा वैज्ञानिक पद्धति से खेती करें।

कार्यक्रम का उद्घाटन सहायक जिला कृषि पदाधिकारी रामजीवन प्रसाद, सहायक निदेशक (रसायन) अनिल कुमार जयसवाल, जिला उद्यान पदाधिकारी उपेंद्र प्रसाद, कृषि वैज्ञानिक हिमेंत कुमार, सलाहकार समिति अध्यक्ष उपेंद्र विश्वास ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिला उद्यान पदाधिकारी उपेंद्र प्रसाद ने कहा कि वैज्ञानिक खेती के तरीके को अपनाकर ही फसलों की उपज बढ़ाई जा सकती है। वहीं कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कृषि विज्ञान केंद्र जलालगढ़ से आए कृषि वैज्ञानिक हिमेंत कुमार ने किसानों को खरीफ फसलों को लगाने की वैज्ञानिक पद्धति, फसलों में लगने वाले रोग के कारण तथा रोगों से बचने के तरीकों तथा रोगों के निदान के लिए आवश्यक जानकारी भी दी।

कार्यक्रम को प्रखंड कृषि पदाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में सभी 13 पंचायतों से आए हुए किसानों के अलावे कृषि समन्वयक साथ ही सभी कृषि सलाहकार उपस्थित थे। मंच संचालन निरंजन कुमार गुप्ता ने की।

Loading...