पूर्णिया: अस्पताल के बाहर कचरे का डेरा बीमार को और बीमार करने के लिए काफी है

नीरज झा/पूर्णिया
पूर्णिया/बिहार:  प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, पूर्णिया पूर्व (खुश्कीबाग) के बाहर गंदगी फेंके जाने के कारण संक्रमण फैलने का खतरा मंडराने लगा है। यह कचरा यहां आसपास के लोगों द्वारा फेंके जा रहा है। जो कि यहां आने वाले मरीजों के लिए खतरा का सबब बना हुआ है। लेकिन स्वास्थ्य केंद्र के  प्रयास के बावजूद भी इस पर रोक नहीं लग पा रहा है। चौंकाने वाली बात यह भी है  सदर थाना पुलिस को लिखित आवेदन देने के बावजूद भी कचरा फेंकने वालों पर रोक नहीं लग रही है।
जानकारी के अनुसार रेड लाइट एरिया के लोगों द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के बाहर सड़क किनारे अपने घरों की गंदगी फेंकी जाती है।  गंदगी से निबटने के लिए जहां स्वास्थ्य केंद्र के अधिकारी इसे नगर निगम के क्षेत्र में होने की बात करते हैं। वहीं नगर निगम द्वारा नियमित साफ सफाई नहीं करने से स्थिति जटिल बनी हुई है। इस लापरवाही से स्वास्थ्य केंद्र में आने वाले रोगियों के लिए खतरा बना हुआ है।
बताते चलें कि इस प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में सप्ताह में दो बार परिवार नियोजन के तहत पूर्णिया पूर्व प्रखंड के सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों से आशा कार्यकर्ता द्वारा अपने पोषक क्षेत्रों से लाई गई, महिलाओं का ऑपरेशन होता है। यह ऑपरेशन गुरुवार और शनिवार को होता है। ऐसे में यहां ऑपरेशन के बाद मरीजों को गंदगी भरे माहौल में वक्त गुजारना पड़ता है। जिससे उनकी सेहत पर बुरा असर पड़ता है। यह गंदगी जानलेवा भी हो सकती है।
इसके बावजूद गंदगी फेंके जाने का सिलसिला बदस्तूर जारी है। हेल्थ मैनेजर किंकर घोष कहते हैं कि उनके द्वारा कई बार यहां कचरा फेंकने वाले लोगों को मना किया गया है पर वे मानते ही नहीं, इससे अजीज होकर वह सदर थाना पुलिस को भी लिखित आवेदन देकर सूचित किए थे परंतु इसे रोका नहीं जा सका है। वहीं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ टीसी प्रसाद कहते हैं कि यह कचरा जहां फेंका जाता है। वह क्षेत्र नगर निगम के अंतर्गत आता है जिसके साफ सफाई की जिम्मेदारी नगर निगम की है। नगर निगम कर्मी नियमित साफ सफाई नहीं करते हैं। जिससे यहां गंदगी और संक्रमण की स्थिति उत्पन्न होती है। जो मरीजों के लिए काफी खतरनाक है।
Loading...