पूर्णिया:हर हाल में किसान को इंसाफ दिलाने के लिए लड़ाई जारी रहेगी : अनिरूद्ध मेहता 

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया
पूर्णिया/बिहार: किसानों की समस्याओं को जानने के लिए एक बार फिर किसान मजदूर संघ ने पूर्णिया जिले में किसान महापंचायत शुरू कर दिया है। संघ की ओर से केनगर प्रखंड क्षेत्र के बिठनौली में किसान महापंचायत का आयोजन किया गया।

जिसकी अध्यक्षता किसान नेता अयोध्या प्रसाद यादव ने की। इस किसान महा पंचायत में किसानों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया। किसान महापंचायत में भाग लेने वाले हरेक किसान के चेहरे पर मायूसी दर्द और चिंता की लकीरें साफ दिखाई दे रही थी। हर किसान इस किसान महापंचायत में अपनी समस्या को लेकर पहुंचे थे।

किसी की समस्या मक्का उत्पादन में हुए घाटे को लेकर थी तो किसी की डीजल अनुदान की परेशानी, अफसरशाही, बैंकों में बिचौलिया से परेशानी की थी। इतना ही नहीं किसानों ने बिजली को लेकर भी किसान महापंचायत में अपना आक्रोश व्यक्त किया। इस मौके पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष धीरेंद्र यादव ने कहा कि बिहार में 90 फीसदी नलकूप बंद पड़े हैं। किसानों को उसका वाजिब दाम नहीं मिल रहा है।

उन्होंने कहा कि आने वाले 5 साल में किसान मजदूर की श्रेणी में आ जाएंगे। किसान को फसल का सही मूल्य नहीं मिल रहा लेकिन बिहार की नीतीश कुमार और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार किसानों की हितैषी बनकर वाहवाही लूट रही है। जिसे अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। संघ के संस्थापक अनिरुद्ध मेहता ने कहा कि किसान आत्महत्या कर रहे हैं लेकिन इस ओर किसी का ध्यान नहीं है। किसान अब अपना हक लेने के लिए लड़ाई लड़ेगा। किसान महापंचायत में किसानों का दर्द और उनके हक की लड़ाई के आंदोलन करने की बात संघ के जिलाध्यक्ष शक्तिनाथ यादव ने भी पार्टी के किसान हित कार्य को उनके सामने रखा।

उनका कहना था कि संघ के सदस्य किसानों की लड़ाई लड़ते आ रहे हैं और आगे भी लड़ेेंगे। हर हाल में किसान को इंसाफ दिलाने के लिए लड़ाई जारी रहेगी। इस मौके पर मुकेश महतो, उपेंद्र महतो, दिनेश प्रसाद यादव, राजेश कुमार यादव, सुप्पन मुनि, रविशंकर भारती, विनोद स्वर्णकार, कुंदन महतो, बिंदेश्वरी यादव आदि मौजूद थे।

Loading...