पूर्णिया: सात माहीने पहले फसल बर्बाद हुआ अबतक नहीं मिला किसानों को मुआवजा

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया

बायसी/बिहार: बायसी अनुमंडल क्षेत्र के बैसा, बायसी, अमौर, डगरूआ प्रखंड क्षेत्र में बाढ़ आने के सात माह बाद भी पीड़ितों को बाढ़ राहत का पैसा नहीं मिला है। जिससे बाढ़ पीड़ितों में काफी आक्रोश का माहौल है। ऑल इंडिया मजलिसे इत्तेहादुल मुस्लेमिन पार्टी के जिलाध्यक्ष मो शहनबाज ने बताया कि बाढ़ आने के सात माह बाद भी हजारों लोगों को सरकारी तौर पर राहत नहीं दी गई है। बता दें कि प्रतिवर्ष बाढ़ आने से नदी के दियारा क्षेत्र में रहने वाले लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है लेकिन अबकी बार बाढ़ की विभीषिका अधिक थी और हजारों की तादाद में लोग प्रभावित भी हुए।

आनन फानन में सरकारी तौर पर राहत देने की घोषणा तो कर दी गई लेकिन बाढ़ का पानी उतने सात से अधिक का वक्त बीत चुका है लेकिन आजतक पीड़ित राहत मद की राशि के लिए प्रखंड कार्यालयों का चक्कर काट रहे हैं। इस भीषण बाढ़ से सबसे ज्यादा नुकसान किसानों को हुआ। उनकी फसलें पूरी तरह से पानी में डूब गई। सरकारी घोषणा के बाद फसल क्षति को लेकर सर्वे का काम भी पूरा कर लिया गया है लेकिन फसल क्षति की राशि का भुगतान नहीं हो पाया है।

सबसे ज्यादा नुकसान छोटे तबके के किसानों को हुआ है। वे कर्ज लेकर किसानी करते हैं और फसल डूबने के बाद साहूकारों का शिकार बनना पड़ रहा है। छोटे किसान इस अास में थे कि फसल क्षति का पैसा मिलने के बाद वे साहूकारों का कर्जा वापस कर देंगे लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। किसान कर्ज के बोझ में दबते जा रहे हैं। मो शहनबाज, मो नदीम, गुलाम सरवर, मो मोकर्रम, मो नजीरुद्दीन, अब्दुल राजीक, मो महफूज आलम समेत अन्य लोगों ने सरकार से जल्द से जल्द किसानों को फसल क्षति की राशि देने की मांग की है।

Loading...