अगस्त में टूटी सड़क अब मौत को दे रही है दावत, सरकार बेखबर

प्रियांशु/पूर्णिया

पूर्णिया/बिहार:  बायसी प्रखंड के खूटिया पंचायत व चंद्रगामा पंचायत से सटे मदरसा से गांव जाने वाली पीसीसी सड़क अगस्त 2017 से ही ध्वस्त है। जर्जरता का आलम कुछ ऐसा है कि किसी भी वक्त भारी वाहनों के दबाव में सड़क का एक हिस्सा धंस सकता है। बता दें कि अगस्त माह में आई बाढ़ के कारण सड़क के दोनों हिस्सों की मिट्‌टी पूरी तरह से कट गई और उसके बाद से आजतक न तो प्रखंड और न ही अनुमंडल के प्रशासनिक पदाधिकारी ने इस सड़क की सुध ली है। जिससे किसी भी वक्त बड़ा हादसा हो सकता है।

इस सड़क से होकर बड़ी संख्या में लोग छोटे बड़े वाहनों से आवागमन करते हैं और गांव की आबादी भी करीब एक हजार से अधिक है। इसके बाद भी कोई कार्रवाई अमल में नहीं लाई जा रही है। गांव के निवासी मो फिरोज आलम, संतोष राय, हरिजन राय, मो आसिफ रजा, मो शकील अहमद, तनवीर आलम, मो शहनवाज आलम, मो फैजान नूरी, मौलाना खलीलूर रहमान, मो फैयाज आलम समेत अन्य का कहना है कि बाढ़ के कारण यह सड़क पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है।

ग्रामीणों का आरोप है कि बार बार शिकायत किए जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिससे हादसे की संभावना बनी रहती है। खासकर रात्रि में तो स्थिति और भी बुरी हो जाती है। वाहन चालकों द्वारा हेडलाइट की रौशनी में आगे बढ़कर देखना पड़ता है कि कहां सड़क टूटी है और कहां बड़ा गड्‌ढ़ा है।

ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि सड़क की बदहाली किस स्तर की है। बता दें कि इस सड़क के एक ओर गांव तो दूसरी ओर बड़े गड्ढे बने हैं और इसी सड़क के ठीक बगल में मदरसा है। जहां छोटे छोटे बच्चे बड़ी संख्या में पहुंचते हैं। ग्रामीणों का कहना है कि इस संबंध में कई बार स्थानीय जनप्रतिनिधियों व प्रशासनिक पदाधिकारियों से शिकायत की गई लेकिन सड़क की सुधि किसी ने नहीं ली। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन से इस सड़क की मरम्मती जल्द से जल्द कराए जाने की मांग की है ताकि वे सुरक्षित आवागमन कर सके।

Loading...