पूर्णिया: 11 पंचायतों को जोड़ने वाला मुख्य मार्ग पर हर कदम पर मौत बिछी है

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया

पूर्णिया/अमौर/बिहार: बैसा प्रखंड अंतर्गत बाढ़ के छह माह की अवधि गुजरने के बाद भी बाढ़ से क्षतिग्रस्त ग्रामीण सड़कों की मरम्मति नहीं हो पाई है। जिस कारण क्षेत्र के आम अवाम को आवागमन में घोर कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। इस संबंध में क्षेत्रीय जिला पार्षद असरारूल हक ने कहा है कि बैसा प्रखंड के 11 पंचायतों को प्रखंड मुख्यालय से जोड़ने वाली शीशाबाड़ी कर्बलाहाट से मीरपुर होते मजगामा हाट जाने वाली सड़क की स्थिति जर्जर अवस्था में है।

पिछले साल आई भीषण बाढ़ की चपेट में यह सड़क पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई थी और बाढ़ में सड़क किनारे की फ्लाइंग की मिट्टी व सड़क कट गई तथा कई पुल पुलिया भी ध्वस्त हो चुके हैं। जगह जगह गहरे गड्डों में तब्दील इन जर्जर सड़कों पर वाहनों को कौन कहे पांव पैदल चलना भी लोगों के लिए दुश्वार हो गया है। बाढ़ के बाद इस मार्ग में हल्की फुल्की मरम्मती का कार्य कर कागजी खानापूर्ति कर ली गई है और सड़क को रामभरोसे छोड़ दिया गया है। जहां आए दिन सड़क दुर्घटनाएं होती रहती है।

लेकिन ग्रामीण कार्य विभाग इससे बेखबर है। इस सड़क का निर्माण वर्ष 2006 में पूर्व क्षेत्रीय सांसद मो तस्लीमउद्दीन द्वारा पीएमजेएसवाई के तहत कराया गया था। सड़क निर्माण के बारह साल की अवघि गुजरने के बाद भी इस मार्ग में कभी कोई मरम्मती का कार्य नहीं हुआ है। जबकि क्षेत्र के ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों द्वारा निरतंर इस महत्वपूर्ण सड़क की मरम्मती व जीर्णोद्धार की मांग की जाती रही है। जिस पर प्रशासनिक स्तर पर अभी तक कोई पहल नहीं की गई है। प्रखंड के अन्य पंचायतों की ग्रामीण सड़कों की स्थिति भी कमोबेश इसी प्रकार की है। जो प्रशासनिक संवेदन शून्यता को दर्शाता है। जिला पार्षद ने इस दिशा में साकारात्मक पहल करने का अनुरोध बायसी अनुमंडल प्रशासन एवं जिला प्रशासन से किया है।

पार्ट-2 में होगा सड़क मरम्मती का कार्य
ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल बायसी के सहायक कार्यपालक अभियंता गिरजानंद सिंह ने कहा है कि बाढ़ में क्षतिग्रस्त बैसा एवं अमौर प्रखंड के ग्रामीण सड़कों का पार्ट-1 के तहत अस्थाई रूप से मरम्मती का कार्य कर तत्काल यातायात बहाल किया गया है। इन दोनों प्रखंडों में बाढ़ से क्षतिग्रस्त तमाम ग्रामीण सड़कों की स्थाई रूप से मरम्मती के लिए डीपीआर तैयार कर पार्ट-2 के तहत विभाग को प्रस्ताव भेजा गया है। जिसमें शीशाबाड़ी मजगामा हाट सड़क का भी प्रस्ताव शामिल है। प्रस्ताव स्वीकृत होने पर टेंडर निकाला जाएगा और मरम्मति का कार्य पूर्ण किया जाएगा।

Loading...