पूर्णिया: कटाव निरोधी कार्य में अनियमितता पर ग्रामीणों में आक्रोश

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया
पूर्णिया/अमौर/बिहार:  अमौर प्रखंड अंतर्गत ज्ञानडोव पंचायत के पैठानटोली गांव में दास नदी के तटों पर आरंभ कटाव निरोधी कार्य योजना की गुणवत्ता पर स्थानीय ग्रामीणों ने सवाल उठाया है। ग्रामीणों के अनुसार इस योजना के निर्माण में संवेदक द्वारा जिओ बैग के साथ लोकल गेहूं, चावल आदि का हजारों खाली बैग का इस्तेमाल किया गया है। जिसमें मिट्टी व बालू भरकर तटों के निचली सतह पर जाली के बीच बिछाया गया है तथा ऊपरी सतह में जिओ बैग में बालू भरकर पीचिंग की जा रही है।
ग्रामीणों का कहना है कि निचली सतह में मिट्टी बालू भरे लोकल बैग नदी के तटों की पानी में गल जाएगा और ऊपर सतह के पीचिंग में बालू से भरे जिओ बैग भी फिसलकर नदी में गिरने की संभावना प्रबल है। जिससे इस निर्माण योजना की गुणवत्ता पर प्रश्नचिन्ह खड़ा हो गया है। ग्रामीणों ने इस कटाव निरोधक योजना में बरती जा रही अनियमिताओं की जांच कर, गुणवत्तपूर्ण निर्माण कराने दिशा में आवश्यक कार्रवाई किए जाने का अनुरोध बायसी अनुमंडल पदाधिकारी एवं जिलाधिकारी से की है। शिकायतकर्ताओं में स्थानीय ग्रामीणों मो सफीक, मो साजिद, रौशन जमील, जाकीर आलम, मो जफर, मो मोजाहिद, मो मोइज, मो एहरार आदि मुख्य रूप से शामिल हैं।
ग्रामीणों की शिकायत निराधार
इस संबंध में जलनिश्रण विभाग के राम इकबाल महतो कार्यपालक अभियंता बाढ़ ने कहा है कि अमौर एवं बैसा प्रखंड के विभिन्न तटवर्ती गांवों को नदी कटाव से बचाव के लिए जलनिश्रण विभाग द्वारा स्वीकृत 1.20 करोड़ की कटाव निरोधी योजनाओं का क्रियान्वयन क्रमश: अमौर प्रॆखंड के पैठानटोली, खाड़ी मुर्गीटोला, बैसा के मंगलपुर (दोनों पार), बायसी के नियामतपुर एवं चकला गांव शामिल हैं। जिसका संवेदक ए के कंसट्रक्शन दरभंगा है। उन्होंने निर्माण योजनाओं का स्थलीय निरीक्षण किया है और निर्माण कार्य सही हो रहा है। निर्माण में तटों के निचली सतह में सिमेंट की खाली बोरी में बालू भर जाली के बीच बिछाने तथा ऊपरी सतह में जिओ बैग में बालू भर कर पीचिंग किए जाने प्रावधान है। पैठानटोली गांव में कटाव निरोधी कार्य निर्माण गुणवत्तापूर्ण हो रहा है और ग्रामीणों की शिकायत पूर्णत: निराधार है।
Loading...