पूर्णिया: पार्षदों ने शहर की सफाई पर उठाए सवाल ‘केवल साहब की सड़कों की सफाई क्यों?’

नीरज झा/पूर्णिया

पूर्णिया/बिहार:  शहर में साफ सफाई को पटरी पर लाने के लिए पार्षदों ने तेवर तल्ख कर लिए हैं। नगर निगम के सात पार्षदों ने सही तरीके से सफाई नहीं होने को ले एनजीओ के खिलाफ नगर आयुक्त व मेयर को चिट्ठी भेजी है। पत्र के माध्यम से सभी पार्षदों ने एनजीओ की कार्यशैली पर जहां सवाल खड़ा किया है। वहीं 09 फरवरी को हुई सशक्त स्थायी समिति की बैठक में भी मेयर ने पंद्रह दिनों के अंदर शहर की सफाई व्यवस्था को पटरी पर लाने का सख्त निर्देश दिया था। लेकिन इन तमाम कवायदों के बाद भी एनजीओ की कार्यशैली में कुछ खास सुधार होता नजर नहीं आ रहा है और शहर की मुख्य सड़कों को छोड़ दें तो अमूमन सभी गली मोहल्लों की सड़कों पर गंदगी का ढेर दिखना कोई नई बात नहीं है। 

केवल साहब की सड़क पर सफाई का आरोप
पार्षदों की शिकायत है कि आमतौर पर उन्हीं सड़कों की साफ सफाई की जाती है जहां से प्रतिदिन साहबों की गाड़ियां गुजरती हैं। जबकि वार्ड के गली मोहल्लों में सफाई व्यवस्था पूरी तरह से चरमराई नजर आ रही है। नगर निगम कार्यालय से महज 500 मीटर पर दूरी पर स्थित टैक्सी स्टैंड रोड के नाले में गंदगी अटी पड़ी है लेकिन बार बार शिकायत के बाद भी एनजीओ द्वारा सफाई नहीं की जा रही है। वहीं दूसरी ओर नेहरू युवा केंद्र के पास तो ठोस कचरे को डंप कर छोड़ दिया जाता है। जहां पशुओं का ढेर लग जाता है और ठोस कचरा सड़क पर तितर बितर हो जाता है। जबकि एनजीओ के साथ हुए करार में घर घर से कचरा उठाव पर सहमति बनी थी। 

क्या है प्रावधान 
पूर्व मेयर कनीज रजा का कहना है कि एनजीओ द्वारा शहर के वार्डों में मुकम्मल तरीके से सफाई नहीं की जा रही है। जबकि डोर टू डोर वेस्ट कलेक्शन के साथ साथ वार्डों में एनजीओ कर्मियों के द्वारा लोगों को जागरूक करने व लोगों के साथ बैठक कर सूखा व गीला कचरे को किस तरह से इकट्‌ठा करना है के बारे भी जानकारी दिए जाने का प्रावधान तय किया गया था। लेकिन इन तमाम दिशा निर्देशों के बाद भी एनजीओ के द्वारा कुछ खास पहल नहीं की जा रही है। हालांकि वाहन में लगे लाउडस्पीकर के जरिये माइकिंग जरूर कराई जाती है। लेकिन बैठक अबतक किसी भी वार्ड में नहीं की गई है।

वार्ड नंबर 02 की पार्षद रंजना सहाय का कहना है कि गली माेहल्लों में साफ सफाई का नितांत अभाव है। लोग प्रतिदिन शिकायत करते हैं और पार्षदों के द्वारा पत्र प्रेषित करने के बाद भी एनजीओ की कार्यशैली में सुधार होता नहीं दिख रहा है। वहीं वार्ड नंबर 26 की पार्षद रिंकू देवी ने कहा कि एनजीओ के पास पर्याप्त मजदूर नहीं है। ट्रैक्टर पर सिर्फ एक मजदूर से काम निकाला जा रहा है और उनके वार्ड में सफाई सही तरीके से नहीं हो रही है। इसके अलावा वार्ड 07 के पार्षद रमेश पासवान, वार्ड 20 की लीला देवी, वार्ड 21 के अमित कुमार साह, वार्ड 08 की सुनैनी देवी ने लिखित रूप से जबकि वार्ड 17 के अजय कुमार ने मौखिक रूप से मेयर व नगर आयुक्त से एनजीओ के खिलाफ पत्र प्रेषित किया है। 

लगातार मिल रही हैं शिकायतें  
पूर्णिया नगर निगम की मेयर विभा कुमारी ने कहा शहर में डोर टू डोर कचरा उठाव का कार्य शिवम जन स्वास्थ्य तथा पंच फाउंडेशन एनजीओ को दिया गया है। आए दिन आमजनों व वार्ड पार्षदों से शिकायत मिल रही है कि दोनों एनजीओ द्वारा कार्य में भारी अनियमितता बरती जा रही है। दोनों एनजीओ के पदाधिकारियों को 15 दिनों के अंदर शहर की सफाई व्यवस्था पटरी पर लाने व नालों की अच्छी तरह से सफाई करने का निर्देश दिया गया था। इसके बाद भी कार्यशैली में सुधार नजर नहीं आ रहा है जल्द ही सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

जारी किए जाएंगे कारण बताओ नोटिस  
पूर्णिया के डीडीसी और नगर आयुक्त रामशंकर ने कहा एनजीओ के खिलाफ पार्षदों की नाराजगी को गंभीरता से लिया जाएगा। कारण बताओ नोटिस जारी किए जाने के बाद कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। 

Loading...