पुर्णिया: 6 दिवषयी भागवत कथा का आयोजन, भक्ति के रंग में सराबोर हुए भक्त

निक्कू झा/चंपानगर

पुर्णिया/बिहार:  के नगर प्रखंड के कोहबारा पंचायत अंतर्गत चरैया रहिका गांधी चौक पर स्थानीय ग्राम वासियों द्वारा 6 दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ आयोजन किया गया। जिसमे गोविंद दास जी महाराज उर्फ प्रमोद गोस्वामी ने प्रवचन से लोगों को ज्ञान की बातें बतायी, और उन्होंने कहा कि भागवत जीवन दर्शन का ग्रंथ है। भागवत ज्ञानवैराग्य को जागृत करने की कथा है। ज्ञान और वैराग्य मनुष्य के अंदर होती है।जिसे जगाना के लिए भागवत ज्ञान जरूरी है।
भारत धर्म प्रधान ,त्यागी ,तपस्वी ,ऋषि मुनियों का देश है । इस देश में रामायण का अखंड पाठ पढ़ा जाता है। चंद गद्दारों द्वारा अखंड पाठ को दो खंडों में तुम्हारी आंखों के सामने टुकड़े टुकड़े कर दिए जाते हैं। और तुम तमाशा बिन बनकर देखते रह जाते हो । भारत को बर्बाद किया है भारत के गद्दारों ने, क्योंकि पृथ्वीराज चौहान के साथ जयचंद गद्दारी नहीं करता तो सपनों में भी मोहम्मद गौरी यहां कदम नहीं रख पाता ।

कथा का शुभारंभ वैदिक मंत्रोचार से कलश स्थापना एवं व्यास पूजन तथा भगवती पाठ कथा बाद भक्ति ज्ञान वैराग्य एवं गौ कर्मों की कथा पहले रोज की गई । वहीं दूसरे रोज राजा परीक्षित जन्म एवं उनके अभिशाप में श्री शुग देव जी का जन्म कथा कही गई। तीसरे दिन भक्त भगवान भक्त प्रहलाद हिरणाकश्यप की कथा झांकी प्रस्तुत कर किया गया। चौथे दिन बावन भगवान के अवतार में श्री राम अवतार कथा कृष्ण अवतार की कथा झांकि द्वारा की गई । पांचवें दिन भगवान श्री कृष्ण के बाल लीलाओं में पूतना वध एवं मिट्टी भक्षण की कथा कही गई । छठे दिन भगवान श्री कृष्ण की रास में मथुरा गमन कंस वध एवं श्री कृष्ण रुक्मणी विवाह का सचित्र वर्णन किया गया। कथा दौड़ में शामिल भजन मंडली ओरगेन पर और सुमित सरगम नाल वादक अखिलेश जी ,पैड पर अमित जी की साज से बिखरे मधुर स्वर द्वारा सुमित सरगम के गाए भजनों से यज्ञ स्थल में मौजूद भक्तों की भीड़ भक्ति रस में सरोवार दिखे। उक्त कथा में दूर इलाकों से हजारों भक्तों की भीड़ उमड़ रही है। शांति व्यवस्था में तैनात ओपी थाना पुलिस एवं स्थानीय युवाओं का योगदान अहम देखा जा रहा है।

Loading...