पूर्णिया:अविश्वास प्रस्ताव के चक्कर में बेपटरी हुई सफाई व्यवस्था, आमजनों में आक्रोश  

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया

पूर्णिया/बिहार : अविश्वास प्रस्ताव को ले महज 48 घंटे का समय बाकी रह गया है। नगर निगम कार्यालय में चहलकदमी भी बढ़ गई है। कर्मियों के साथ साथ आमजनों को इस हाईवोल्टेज ड्रामे के पटाक्षेप का इंतजार है। हालांकि 28 जुलाई को ही पता चल पाएगा कि संकट में है नगर सरकार या नहीं…।

निगम में सारे विकास कार्य ठप पड़े हैं और आम आवाम को होने वाली परेशानी के जिम्मेदार व इन कार्यों को पूरा करने वाले जिम्मेदार भी हमारे माननीय ही हैं। शहर के अमूमन सभी चौक चौराहे पर यही चर्चा हो रही है कि जल्द ही इस हाईवोल्टेज ड्रामा का पटाक्षेप हो ताकि उनके विकास कार्यों को गति मिल सके। इन सबके बीच शहर में सफाई व्यवस्था बेपटरी हो चुकी है।

हर कोई अविश्वास प्रस्ताव के उलझन को सुलझाने में ही लगे हैं और सफाई व्यवस्था पूरी तरह से चरमराने लगी हैं। अमूमन सभी चौक चौराहे पर गंदगी के ढेर नजर आ रहे हैं। जबकि पूर्व में भी सफाई व्यवस्था को लेकर एकाध को छोड़ दें तो न तो किसी वार्ड पार्षद ने सफाई व्यवस्था को ले कवायद की और न ही इस संबंध में अपनी गंभीरता दिखाई। इन बातों से परे निगम के पदाधिकारी व कर्मी भी सफाई व्यवस्था के प्रति गंभीर नहीं दिख रहे हैं। इस संबंध में आमजनों का कहना है कि निगम के सारे विकास कार्यों में लेटलतीफी के लिए जितने जिम्मेवार हमारे पार्षद हैं उतने ही हमारे निगम के पदाधिकारी व कर्मी भी हैं।

…तीन दर्जन विकास कार्य हैं रूके : 

शहर में विकास कार्य मसलन सड़क, नाला, शौचालय व आवास समेत अन्य विकास कार्य माननीयों के कारण रूके पड़े हैं। इन कार्यों को तबतक गति नहीं मिल सकती है जबतक कि हमारे माननीय लौटकर शहर नहीं आते और अविश्वास प्रस्ताव की प्रक्रिया का पटाक्षेप नहीं कर देते। बता दें कि हमारे माननीयों के कारण ही आईएचएसडीपी योजना के तहत करीब 10 करोड़ की लागत से बनने वाले शौचालय का निर्माण नहीं हो पाया और अविश्वास के कारण ही इतनी बड़ी राशि वापस पटना लौट गई। हालांकि इसे लेकर पूर्व में बोर्ड की बैठक में सभी पार्षदों ने हामी भी भरी थी लेकिन आखिर क्या वजह रही कि जनहित के मसले को दरकिनार कर स्वहित की बात सामने आ गई।

…लिया जा रहा है कार्यों का जायजा : 

शहर की सफाई व्यवस्था का जायजा प्रतिदिन लिया जाता है। इसके लिए बाकायदा मुख्य सफाई निरीक्षक को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए हैं। ताकि शहर की सफाई व्यवस्था बनी रहे।

: विजय कुमार सिंह, नगर आयुक्त, नगर निगम पूर्णिया।

Loading...