पुर्णिया: ऑटो स्टैंड का टेंडर लाखों में होता है फिर ऑटो स्टैंड का निर्माण क्यों नहीं?

प्रियांशु आनंद/पुर्णिया
पुर्णिया/बिहार:  शहर की सबसे बड़ी समस्या ऑटो रिक्शा स्टैंड निर्माण का अबतक समाधान नहीं निकल पाया है। जिससे प्रतिदिन शहरी क्षेत्र के लोगों को जहां जाम की समस्या से दो चार होना पड़ता है। वहीं दूसरी ओर ऑटो रिक्शा चालकों को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस मामले को लेकर कई बार धरना प्रदर्शन भी किया गया। यहां तक कि नगर निगम के मुख्य द्वार पर ऑटो चालकों के द्वारा उग्र प्रदर्शन व नारेबाजी भी की गई थी, लेकिन इन तमाम कवायदों के बाद भी कोई नतीजा सामने नहीं आ सका है।
आॅटाे रिक्शा चालकों का कहना है कि स्टैंड बनाए जाने को लेकर नगर आयुक्त, जिलाधिकारी समेत कई अन्य वरीय पदाधिकारी को कई बार आवेदन दिया गया है। बता दें कि गत वर्ष ऑटो स्टैंड के लिए हुए टेंडर में 57 लाख रूपए की बोली लगी थी और इस बार भी टेंडर की प्रक्रिया की जा रही है। लेकिन कयास लगाए जा रहे हैं कि इस वर्ष बैरियर की राशि में इजाफा किया जाएगा। जिससे ऑटो चालकों में नाराजगी है।
बिहार राज्य चालक संघ अंतर्गत ऑटो रिक्शा चालक संघ पूर्णिया के जिलाध्यक्ष अमर पांडेय का कहना है कि 28 मार्च व 31 मार्च को जिलाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी व नगर आयुक्त को स्टैंड निर्माण को लेकर आवेदन सौंपा गया है। दिए गए आवेदन में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि बैरियर के नाम पर नगर निगम व नगर पंचायतों के द्वारा करोड़ों रूपए की उगाही तो की जाती है लेकिन सुविधा के नाम पर एक अदद स्टैंड तक नसीब नहीं है। इस कारण वे बैरियर वसूली का बहिष्कार करेंगे।
वन वे बैरियर के नाम पर किया जाता है परेशान
ऑटो चालकों का कहना है कि शहर में जाम की समस्या का सबसे बड़ा कारण स्टैंड का निर्माण नहीं होना है। उन्होंने कहा कि इसी बहाने पुलिस प्रशासन द्वारा बेवजह ऑटोरिक्शा चालकों को परेशान किया जाता है। लाइन बाजार में वन वे लगाकर उन्हें किसी अन्य रास्ते से आवाजाही करने पर मजबूर किया जाता है। जबकि शहर का एकमात्र सिक्सलेन अतिक्रमण के कारण टू लेन में परिवर्तित हो चुका है।
अमर पांडेय कहते हैं कि पुलिस प्रशासन द्वारा सिक्स लेन पर मौजूद अतिक्रमणकारियों मसलन रेहड़ी संचालक, दो व चार पहिया वाहन चालकों पर कार्रवाई नहीं की जाती है जो कि जाम का सबसे बड़ा कारण है। उन्होंने कहा कि अतिक्रमणकारियों के कारण ही सिक्सलेन पर जाम की स्थिति बनी रहती है और खामियाजा ऑटो चालकों को भुगतना पड़ता है।
ऑटो चालक करेंगे बैरियर का विरोध
ऑटो चालकों ने अल्टीमेटम देते हुए कहा है कि यदि जल्द से जल्द ऑटो स्टैंड का निर्माण नहीं कराया गया तो बेशक वे बैरियर का विरोध करेंगे। अमर पांडेय ने कहा कि प्रशासनिक उदासीनता के कारण हजारों ऑटो चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। स्टैंड का निर्माण नहीं होने के कारण ऑटो चालक मजबूरन सड़क किनारे ऑटो लगाते हैं।
दो माह के अंदर शुरू होगा कार्य
पूर्णिया नगर निगम की मेयर विभा कुमारी ने कहा शहर में जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए जल्द ही ऑटोरिक्शा स्टैंड का निर्माण कराया जाएगा। इसके लिए टेंडरिंग प्रक्रिया की जा रही है और पटना से आदेश प्राप्त होने के बाद निर्माण कार्य की शुरूआत कर दी जाएगी। इन सभी प्रक्रिया में दो माह का वक्त लगेगा।
Loading...