पूर्णिया: हैलो बोलकर कोई आपका अकाउंट खाली न कर दे इसलिए बरतें ये सावधानी

नीरज झा/पूर्णिया
पूर्णिया/बिहार:  सीमांचल में बढता जा रहा है साइबर क्राइम का ग्राफ। अनपढ़ से लेकर पढे लिखे लोग हो रहे हैं शिकार। आए दिन बढती जा रही है फर्जी कॉल की संख्या।  सुबह के ठीक 09ः31 मिनट पर 8873589883 नंबर से कॉल आया। बोला मैं पटना एसबीआई ब्रांच से सुबोध बोल रहा हूं। मैनें बोला जी बोलिए। उसने कहा कि आपके एटीएम कार्ड की वैलिडिटी खत्म होने वाली है। मैंने बोला तो क्या करना है मुझे। उसने कहा कि बस आपको एटीएम नंबर और पिन कोड बताना होगा मै यही से एटीएम कार्ड की वैलिडिटि बढ़ा दूंगा। मैंने बोला भाई साबह सुबह के 09ः31 बजे आप ब्रांच में पहुंच गए। क्या बात है हमारा भारत बदल रहा है क्या।
तो सामने से जबाव आया कि एटीएम 24/7 काम करता है। मैने कहा रहने दीजिए एटीएम मेरा बंद होगा न, इससे आपको क्या। उसने फोन काट दिया। आये दिन इस तरह फोन कॉल से कई लोग ठगी का शिकार हो रहे है।  फोन काल से जरूरी जानकारी इकट्ठा कर खाते से उड़ा देते हैं  पैसे।  खास कर  के डिजीटल पेमेंट बढ़ने के बाद से भी साइबर क्राइम बढ़ गया है।बस सर्तक रहने की जरुरत है।
पहले और अब में फर्क
इस मामले की पड़ताल के लिए जब आरबीओ यानि रिजीनल बैंक ऑफिस पूर्णिया पहूंचा तो वहां पर उपस्थित मुख्य प्रबंधक सुनील कुमार(ग्राहक सेवा व प्रणाली प्रबंधक) ने बताया कि पहले एटीएम कार्ड और कोड पूछ कर व कार्ड नंबर बताने के बाद उससे ऑनलाइन शापिंग करके लोगों को ठगा जाता था। लेकिन अब सिर्फ आधार कार्ड का नंबर जानने के बाद एकाउंट से पैसे निकाला लिया जाता है। एफआईआर व शिकायत नहीं करने से इसका आकड़ा बैंकों के पास उपलब्ध  नहीं रहता है।
क्या न करें
किसी तरह की जानकारी किसी भी व्यक्ति को न बताये। जिसमें एटीएम नंबर, पिन, आधार कार्ड नंबर, ओटीपी कोड तो किसी को नहीं बताना चाहिए। साथ ही अगर आपको रजिस्टर फोन नंबर बंद करने के लिए कहा जाए तो मत करें।
क्या करें
अगर आपको ऑनलाइन शापिंग या ट्रांजेक्शन करना है तो एसबीआई या किसी अन्य बैंक के साइट से करें न कि एटीएम कार्ड से। अगर एटीएम कार्ड से पेमेंट करना है तो किसी सुरक्षित  व विश्वसनय  साइट से ही करें।
मुझे भी फोन आया था
एसबीआई मुख्य प्रबंधक सुनील कुमार ने बताया कि मुझे भी एक दिन इसी तरह का फोन आया कि मै मुंबई से बोल रहा हूं। आपके एटीएम कार्ड का वेलिडिटि  खत्म हो गई है। अपना एटीएम नंबर बताएं । मैंने कहा कि आपको एटीएम नंबर नहीं पता है। तो उसने फोन काट दिया। आपको आपके जान पहचान वाले बैंक कर्मी के नाम से भी फोन किया जा सकता है। जबकि ऐसा नहीं होता है। बैंक के किसी भी कर्मी द्वारा इस तरह का कॉल नहीं जाता। अब तो एटीएम कार्ड अपने आप रिन्यूअल हो जाता है। और आपके दिये हुए पते पर डाक द्वारा भेज दिया जाता है। एसबीआई द्वारा मींगल, इस्टाग्राम, फेसबुक के साथ ग्राहक को ईमेल के माध्यम से प्रत्येक दिन मैसेज भेजा जाता है कि किसी भी व्यक्ति से कोई भी जानकारी साझा न करें। बस सर्तक रहने की जरुरत है
Loading...