पूर्णिया:कृषि महाविद्यालय में मधुमक्खी पालन की दी गयी जानकारी

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया
पूर्णिया/बिहार:नेशनल बी बोर्ड द्वारा प्रायोजित एवं ग्राम विकाससमिति, बाराबंकी द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय 7 दिवसीयप्रशिक्षण ”मधुमक्खी पालाकों/किसानों के लिए वैज्ञानिकविधि से मधुमक्खी पालन“ विषय पर कृषि विज्ञान केन्द्र, जलालगढ़ में 20/07/18  को शुभारम्भ हुआ।

 प्रशिक्षण के तीसरे एवं चैथे दिन का कार्यक्रम में कृषि महाविद्यालय केप्राचार्य डा॰ राजेश कुमार ने बताया कि 22.07.2018 एवं23.07.2018 को भोला  पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालयपूर्णियाँ में सभी प्रषिक्षणार्थियों को मधुमक्खी पालन सेसंबंधित विभिन्न आयामों पर प्रषिक्षण दिया गया।

डा॰अनिल कुमार, उद्यान विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष सहसहायक प्राध्यापक के द्वारा मधुमक्खियों के द्वारा फसलोंखासकर उद्यानिक एवं सब्जी फसलों में परागण के महत्व परविस्तार पूर्वक प्रषिक्षण दिया। इसी क्रम में महाविद्यालय केमृदा वैज्ञानिक डाॅ0 पंकज कुमार यादव ने बताया कि मिट्टी केजाँच के बाद ही रसायनिक उर्वरकों का संतुलित प्रयोग करेंजिससे मिट्टी का भौतिक, रासायनिक एंव जैविक गुणों केसाथ मृदा स्वास्थ्य को भविष्य के लिए सुरक्षित रखा जा सके।

कीट विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष सह वरीय वैज्ञानिक डा॰पारस नाथ ने मधुमक्खी पालन में प्रयुक्त विभिन्न उपकरणों केसाथ साथ मधुमक्खी के मौसमी प्रबंधन पर विस्तार पूर्वकचर्चा की।

उन्होंने मधुमक्खीयों में पूर्णिया जिले में लगने वाले विभिन्न बिमारियों एवं कीटों के प्रबंधन की भी जानकारी दी।प्रशिक्षण कार्यक्रम में एच के वोहरा, पूर्व प्रशिक्षक, मधुमक्खी केन्द्र, जूलीकोट उत्तरांचल,  प्रकाश सिंह, बीप्रजनक के साथ ग्राम विकास समिति के विपुल चैधरी एवंविषाल ने भी विभिन्न विषयों पर प्रशिक्षणार्थियों को प्रशिक्षण दिया।

प्रशिक्षण के क्रम में डा॰ राजेष कुमार, प्राचार्य भोलापासवान षास्त्री कृषि महाविद्यालय पूर्णियाँ ने प्रषिक्षणार्थियोंको सम्बोधित करते हुए मधुमक्खी पालन से होने वाले प्रत्यक्षएवं अप्रत्यक्ष लाभ पर विस्तार पूर्वक चर्चा करते हुए किसानोंको सुझाव दिया कि प्रषिक्षण लेने के बाद इस व्यवसाय कोअपनाकर लाभ कमायें तथा आसपास के अन्य इच्छुक लोगोंको मधुमक्खी पालन एक व्यवसाय के रुप में अपनाने के लिए प्रेरित करें।

 इस अवसर पर कृषि विज्ञान केन्द्र, जलालगढ़ केवरीय वैज्ञानिक सह प्रधान डा॰ सीमा कुमारी ने बताया किभारत सरकार कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय अन्तर्गतकृषि कल्याण अभियान कार्यक्रम के तहत नेशनल बी बोर्डद्वारा प्रायोजित मधुमक्खी पालन प्रषिक्षण में पूर्णियाँ जिले केचयनित कृषकों/कृषक महिलाओं को मधुमक्खी पालन सेहोने वाले लाभ पर विस्तार पूर्वक चर्चा की एवं किसानों कोआष्वासन दिया कि कृषि विज्ञान केन्द्र, जलालगढ़ आपको  मधुमक्खी पालन व्यवसाय अपनाने में पूर्ण सहयोग करेगा।

इस अवसर पर महाविद्यालय के अन्य वैज्ञानिक  डा॰ पारसनाथ, डा॰ जे॰ प्रसाद, डा॰  अनिल कुमार, डाॅ0 पंकज कुमारयादव, डा॰ रवि केसरी, डाॅ0 तपन गोराई,  श्री जय प्रकाशप्रसाद,  डा॰  रुबी साहा एवं डा॰  श्यामबाबु साह,  डा॰ माचाउदय कुमार के साथ साथ श्री नवीन लकड़ा एवं गिरीष दास नेप्रषिक्षणार्थियों को प्रषिक्षण के दौरान सहयोग प्रदान किया।

Loading...