पूर्णिया:मखाना निर्यात को बढ़ावा देने हेतु एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया

पूर्णिया/बिहार:भोला पासवान शास्त्रीकृषि महाविद्यालय, पूर्णिया के द्वारा कृषि और प्रसंस्कृत खाद्यउत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय,भारत सरकार द्वारा वित्तपोषित बिहार से मखाना निर्यात को बढ़ावादेने हेतु एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम -सह-हितधारक(स्टेकहोल्डर) कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस अवसर परप्राचार्य डाॅ राजेश कुमार ने सभी अतिथियों को पुष्प गुच्छ एवंअंगवस्त्र देकर सम्मानित किया।

कार्यक्रम की शुरूआत स्नातककृषि की छात्राओं के स्वागतगान के साथ हुआ इस कार्यक्रम कीअध्यक्षता कुलपति बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर, भागलपुर प्रो0  (डा0) अजय कुमार सिंह ने किया ।इस कार्यक्रम मे विशिष्टअतिथि निदेशक प्रसार शिक्षा, बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर,भागलपुर  डाॅ0 आर0 के0 सोहाने, श्मती समिधा गुप्ता सहायकमहाप्रबंधक कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकासप्राधिकरण, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार, डा॰ पंकजकुमार, प्रधान वैज्ञानिक, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्लीएवं सह अधिष्ठाता-सह-प्राचार्य डाॅ0 राजेश कुमार की गरिमामयीउपस्थिति में कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत हुई।

इस कार्यक्रम काउद्देश्य बिहार के मखाना उत्पादक किसानों की मखान के निर्यात एवंव्यवसाय में आने वाली समस्याओं पर चर्चा कर आने वाले समय मेंकिसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य किस प्रकार प्राप्त होइसपर विस्तारपूर्वक चर्चा करना रही।

सह अधिष्ठाता-सह-प्राचार्य डाॅ0 राजेश कुमार ने अपनेस्वागत भाषण में मखाना के विकास पर विगत 6 वर्षों से चल रहेशोध कार्यों की विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान की साथ ही साथमहाविद्यालय की सभी गतिविधियां शिक्षा शोध, प्रसार एवं प्रशिक्षणके साथ साथ अन्य गतिविधियों के बारे में भी जानकारी प्रदान की।

विशिष्ट अतिथि निदेशक प्रसार शिक्षा, बिहार कृषिविश्वविद्यालय, सबौर, भागलपुर  डाॅ0 आर0 के0 सोहाने ने अपनेसंबोधन में कहा कि मखान के उचित विकास के लिए मिथलांचलमखाना उत्पादक संघ का गठन किया जा चूका है। जिसकी निबंधनकी प्रक्रिया जारी है। इसके उपरान्त मखाना का जी॰ आई॰ टैग केलिए भारत सरकार को आवेदन किया जायेगा।

कृषि विज्ञान केन्द्र,पूर्णियाँ, कटिहार, किशनगंज, अररिया, सुपौल, सहरसा, मधेपूरा केसहयोग से इन सभी जिलों में किसानों के खेत एवं तलाब परमखाना एवं मखाना सह मत्स्य पालन तकनीक का अग्रीम पंक्तिप्रदर्शन लगाया जायेगाजिससे किसानों को प्रति हेक्टेयर अधिकआमदनी प्राप्त होगी।

समिन्धा गुप्ता सहायक महाप्रबंधक कृषि औरप्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण, वाणिज्य एवंउद्योग मंत्रालय, भारत सरकार ने मखाना व्यपारियों, मखानाउत्पादक किसानों एवं मखाना निर्यातकों के कार्यों में आने वालीसभी समस्याओं पर विस्तार पूर्वक चर्चा की तथा भारत सरकार द्वाराचालाये जा रही निर्यात को बढ़ावा देने वाली विभिन्न योजना के बारेमें विस्तृत जानकारी के साथ साथ वितीय समस्याओं के समाधानपर भी चर्चा की।

साथ ही साथ मखाना व्यपारियों, मखाना उत्पादककिसानों एवं मखाना निर्यातकों को आस्वस्त किया कि बिहार सेमखाना के निर्यात में होने वाली सभी प्रकार की समस्याओं के निदानहेतु हर संभव मदद कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकासप्राधिकरण, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रदानकी जायेगी।

इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रो0  (डा0)अजय कुमार सिंह, कुलपति बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर,भागलपुर  ने अपने सम्बोधन में मखाना उत्पादक किसानों कीसमस्याओं को विस्तार पूर्वक सुना तथा व्यवसायी किसानों की किसप्रकार मदद कर सकते है, इस पर भी चर्चा की साथ ही साथ उन्होनेंयह भी बताया की आने वाले समय में मखाना उत्पादक किसानों कीआय बढ़ाने में मखाना की उन्नतशील प्रजाती सबौर मखाना – 1 एवंमखाना उत्पादन तकनीकी विशेष उपयोगी सिद्ध होगी। उन्होनेमखाना वैज्ञानिकों की टीम को निर्देशित किया कि वर्ष में दो बारमखाना उत्पादन किस प्रकार किया जाय, इस पर विशेष शोध करेंसाथ ही साथ किसानों के खेत पर भी इस प्रकार के प्रयोग लगायेजाय। जिससे किसान जागरूक होकर खेत पद्धति में मखानाआधारित फसल प्रणाली को अपनाये तथा मखाना उत्पादन करअधिक से अधिक आय प्राप्त कर सके। किसनों के तरफ से प्राप्तसुझाव जैसे मखाना के न्युनतम मुल्य का निर्धारण, मखाना की खेतीका विस्तार हेतु सरकार द्वारा मखाना की खेती में अनुदान कीप्रावधान किया जाय एवं मखाना कोरिडोर परियोजना को जल्द सेजल्द लागु कराया जाय। उन्होनें किसानों की समस्यों को सुनते हुएआस्वस्त किया कि इन बातों कृषि मंत्रालय बिहार सरकार तकपहुँचायेगें जिससे मखाना का सर्वागिण विकास हो सके।

इस कार्यक्रम में कृषि विज्ञान केन्द्र, पूर्णियाँ, कटिहार,किशनगंज, अररिया, सुपौल, सहरसा, मधेपूरा के वरीय वैज्ञानिक एवंप्रधान किसानों एवं मखाना व्यवसायियों के साथ भाग लिये। बिहारसे मखाना निर्यात को बढ़ावा देने हेतु कृषि और प्रसंस्कृत खाद्यउत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा), वाणिज्य एवं उद्योगमंत्रालय, भारत सरकार के द्वारा भोला पासवान शास्त्री कृषिमहाविद्यालय, पूर्णियाँ में आयोजित एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम-सह-हितधारक (स्टेकहोल्डर) कार्यशाला में भारत के विभिन्न राज्योंसे मखाना व्यपारियों ने भाग लिया। जिसमें क्रमशः श्री वरूण गुप्ता,ब्लेकनट एग्रीफूड मशीनरी प्रा॰ लि॰, अम्बाला, सारिका मल्होत्राबिजनस स्टेन्र्डड नई दिल्ली, ब्रजेश कुमार शर्मा जानकी नन्दन प्रा॰लि॰, सितामढ़ी, मनिष आन्न्द मिथिला नेचुरल प्रा॰ लि॰,मधुबनी

Loading...

Leave a Reply