कटिहार: युवा किसान की इस कारीगरी ने आलू का साइज बढ़ा दिया

प्रियांशु आनंद/कटिहार

कटिहार/बिहार:  फलका प्रखंड के सोहथा उत्तरी पंचायत के गोपालपट्टी गांव के युवा किसान शुभम अपनी मेहनत से किसानी की नई परिभाषा गढ़ रहे हैं। स्नातक की पढ़ाई के साथ-साथ वे सब्जी की खेती भी कर रहे हैं। उनकी यह खेती पूरे क्षेत्र के किसानों के लिए मिसाल बन गयी है।

पंजाब की तर्ज पर करते हैं खेती 

शुभम पंजाब की तर्ज पर ही सब्जी की खेती करते हैं। अपनी इस मेहनत से उन्होंने आर्थिक मुनाफा भी हासिल किया है। अपनी 10 एकड़ जमीन में वे मौसमी सब्जी की खेती से वर्ष भर में अच्छी आमदनी करते हैं। वर्तमान में चार एकड़ में की गई आलू की फसल पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय है।

एक-एक आलू का वजन एक किलोग्राम का है। चार एकड़ में करीब पांच सौ क्विंटल आलू की पैदावार हुई है। उनके आलू को पेप्सिको कपंनी ने 950 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से खरीद लिया है। खरीदे गए आलू से कंपनी चिप्स तैयार करेगी। आलू के साथ वर्तमान में गोभी, टमाटर, बैंगन की खेती के साथ-साथ (नुनवा) करेला, भिंडी और साग आदि की सब्जी की मिश्रित फसल उनकी खेतों में लहलहा रही है।

उन्होंने बताया कि सब्जी की खेती कम खर्च में अच्छी आमदनी का बढि़या जरिया है। सब्जी में एक खास बात यह है कि यह नकद बिक्री हो जाती है।

किसानी के प्रति बदल रहा नजरिया

किसान श्री ¨सह का कहना है कि किसानी को लोग अब भी निकृष्ट पेशा मानते हैं। अब भी पढ़े-लिखे युवाओं का रुझान किसानी के प्रति कम है। उनका मकसद किसानी को नए रूप में प्रतिष्ठापित करना है।

Loading...