सीएम नीतीश की सलाह पर IT ने लालू की बेनामी संपत्ति पर छापेमारी की ?

नई दिल्ली:  आयकर विभाग ने मंगलवार को सुबह साढ़े आठ बजे से आरजीडी सुप्रीमो लालू यादव के 22 ठिकानों पर छापेमारी की शुरुआत की। इस छापेमारी में लालू यादव के साथ साथ उनके बेहद करीबी रहे प्रेमचंद गुप्ता के बेटे की संपत्ति भी शामिल है। साथ ही लालू के परिवार के दूसरे सदस्यों की संपत्ति भी शामिल है। बताया जा रहा है जिस बेनामी संपत्ति का पता लगाने के लिए आयकर विभाग दिल्ली एनसीआर मे 22 जगहों पर छापेमारी कर रही है उसकी कुल कीमत तकरीबन 1000 करोड़ है।

लेकिन आयकर विभाग की इस छापेमारी से ठीक एक दिन पहले बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने लालू के परिवार की बेनामी संपत्ति पर उठ रहे सवालों पर अपनी चुप्पी तोड़ी थी। नीतीश ने शुरुआत में तो लालू से एक समान दूरी बनाते हुए कहा था बीजेपी की तरफ से जो आरोप लगाए जा रहे हैं उसका जवाब आरजेडी ने दे दिया है। लेकिन अपनी बात पूरी करते करते नीतीश ये कह गए थे कि अगर इतने पर भी उन्हें यकीन नहीं हो रहा है तो वो इस मामले की पूरी जांच करवा लें।

नीतीश की ये (मामले की पूरी जांच करवा लें) कहे हुए 24 घंटे भी नहीं बीते थे कि अगले दिन यानि मंगलवार को सुबह साढ़े आठ बजे से आयकर विभाग की टीम दिल्ली-एनसीआर में लालू और उनके परिवार के लोगों के 22 ठिकानों पर छापेमारी करने पहुंच गई। इसलिए ये सवाल भी उठ रहे हैं कि क्या नीतीश की सलाह के बाद आयकर विभाग ने लालू के खिलाफ छापेमारी शुरु की है।

Loading...