अररिया उपचुनाव अपडेट: मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की कतार, 2 जगह वोट बहिष्कार

नीरज झा/अररिया

अररिया/बिहार:  अररिया लोकसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव के लिए आज सुबह सात बजे से वोटिंग जारी है जो शाम पांच बजे जारी रहेगा। जानकारी के मुताबिक अररिया लोकसभा के सभी बूथों पर लोग कतार में लगकर मतदान कर रहे हैं। मतदान केंद्रों पर महिलाएं भी अपने मत का प्रयोग करने के लिए भारी संख्या में पहुंची हैं। कड़ी धूप होने के बावजूद भी लोग शांति पूर्वक अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था के तहत सभी जगह पर मतदान जारी है।

विदित हो कि अररिया लोकसभा सीट  राजद  सांसद मोहम्मद तस्लीमुद्दीन के निधन से रिक्त हुई सीट पर उनके पुत्र सरफराज आलम और एक बार चुनाव जीत चुके भाजपा के प्रत्याशी प्रदीप सिंह के बीच  मुख्य मुकाबला उभर कर सामने आया है। मिली जानकारी के अनुसार अररिया के कुशियार गांव में बूथ संख्या 37और 37 (A) पर दिन के 8:45 में मतदान का बहिष्कार किया गया। बहिष्कार करने की वजह स्पष्ट नहीं है। तो वहीं  पलासी प्रखंड के ब्रहकुबां पचांयत केे दौलतपूर गांव केे बूथ नंबर 58 पर भी मतदान का बहिष्कार किया गया। मतदाताओं  का कहना है कि रोड नहीं तो वोट नहीं।
राजद उम्मीदवार सरफराज आलम ने दिन के 12 :54 बजे मतदान कर अपनी जीत का दावा किया। उन्होंने मशहूर डायलॉग भी दोहराया  कि जिनके घर शीशे के बने होते हैं वे दूसरों पे पत्थर नही फेंकते हैं। तो वही भाजपा उम्मीदवार प्रदीप सिंह ने सुबह के 10:42 में  अपने मत का प्रयोग किया।
स्मार्टफोन रखनेवाले मतदाताओं में सेल्फी का भी क्रेज चल रहा है। मतदान बूथ में अपने मताधिकार का प्रयोग कर बाहर निकलते मतदाता अपनी सेल्फी लेना भी नहीं भूल रहे हैं।

नये सियासी गठबंधनों की प्रतिष्ठा दांव पर

उपचुनाव को मिशन-2019 का सेमीफाइनल मानकर एनडीए और महागठबंधन की ओर से ताबड़तोड़ प्रचार किया गया था। चुनाव प्रचार के दौरान महागठबंधन ने घोटाले और आरक्षण के मुद्दे पर सत्तारूढ़ दलों के प्रत्याशियों को कमजोर करने की कोशिश की तो सत्तारूढ़ दलों ने भी लालटेन युग एवं आतंक राज को उछालकर प्रतिद्वंद्वियों की हवा निकालने में कोई कसर बाकी नहीं रखी थी। वहीं हाल में पाला बदलने वाले नेताजी की भी अग्नि परीक्षा है। अररिया लोकसभा  सीट पर दोनों गठबंधनों के बड़े नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव समेत कई नेता एवं मंत्री मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए चुनावी सभा कर चुके हैं।
Loading...