अररिया पहुंचे लालू के लाल तेजस्वी यादव, सियासत दे रही है ‘सर्दी में गर्मी का एहसास’

नीरज झा/अररिया
अररिया/बिहार:  बिहार के बदले राजनीतिक परिवेश व जदयू-भाजपा गठबंधन की सरकार बनने के बाद राजद के युवा नेता व पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव पहली बार सीमांचल के दौरे पर हैं। इधर,अररिया लाेक सभा उपचुनाव का भी बिगुल बज चुका है। शनिवार को कटिहार से उनकी संविधान बचाओ न्याय यात्रा शुरू हो गई है। पूर्णिया के बायसी में तेजस्वी की आम सभा हो चुकी है । बिहार में सत्ता से बाहर होने के बाद राजद आक्रामक विपक्ष की भूमिका में है।
तेजस्वी के इस दौरे को सीमांचल में राजद को मजबूत करने की कवायद से जोड़कर देखा जा रहा है। सामने अररिया लोकसभा का उपचुनाव है और इसका परिणाम सीमांचल की राजनीति को काफी प्रभावित करेगा। यह राजद के लिए अग्निपरीक्षा होगी, क्योंकि राजद सांसद तस्लीमुद्दीन के निधन से यह सीट खाली हुआ है। आज  अररिया और नरपतगंज में आम सभा को सम्बोधित कर रहे है।  राजद के जिलाध्यक्ष मो कमरूज्जमा  बताते हैं कि तेजस्वी के दौरे को लेकर राजद कार्यकर्ता खासे उत्साहित हैं।
शरद के बाद अब तेजस्वी के दौरे से गरमाई सीमांचल की राजनीति
इससे पहले शरद यादव के दौरे से सीमांचल की राजनीति में गर्मी आई थी। अब पूर्व उपमुख्यमंत्री व लालू के बेटे तेजस्वी के सीमांचल दौरे से फिर राजनीतिक गर्माहट शुरू होने वाली है। राजद नेता तेजस्वी के दौरे के बहाने सीमांचल में राष्ट्रीय जनता दल अपने आधार को मजबूत करने में जुट गया है।
माना जा रहा है कि बिहार में बदले राजनीतिक समीकरण के बाद सीमांचल को राजद अपना बड़ा आधार क्षेत्र बनाने जा रहा है और सीमांचल व कोसी में राजद की मिट्टी को और उर्वर बनाने की तैयारी है। बहरहाल देखना यह है कि सीमांचल में राजद अपनी पौधे  को कितना अधिक खाद-पानी दे पाते हैं। राजद जिलाध्यक्ष कमरूज्जमा ,  विधायक अनिल यादव  ,राजद के पूर्व प्रदेश महासचिव कमल किशोर यादव, पूर्व विधायक सरफराज आलम सहित महागठबंधन के सभी कार्यकर्ता तेजस्वी के कार्यक्रम को ऐतिहासिक बनाने में जुटे हैं।
Loading...