अररिया उपचुनाव में सट्टा बाजार में बढ़ी गर्मी, RJD पहली पसंद

नीरज झा/अररिया
अररिया/बिहार:  रविवार को अररिया लोकसभा उपचुनाव का मतदान शांतिपूर्ण संपन्न हो गया । इसके साथ ही सात प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में बंद हो गई। चुनाव का परिणाम 14 मार्च यानी कल  आने वाला है। लेकिन इसे लेकर भारत सहित नेपाल के में भी सट्टा बाजार गर्म हो गया है। नतीजे आने में अभी  कुछ घंटे  का वक्त है लेकिन किसकी होगी जीत और किसकी होगी हार, इस पर सट्टा लगना मतदान  के बाद से ही शुरू हो गया था।
वहीं इन क्षेत्रों में बाजार भाव के हिसाब से शिखर पर रहने वाली पार्टियों के प्रत्याशी पर सट्टा लगाया जा रहा है।
सट्टा बाजार बीजेपी फिसड्डी!
सटोरियों के बीच चुनाव प्रक्रिया शुरू होने के बाद से ही दौड़ में पीछे रहने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के भाव में नरमी तो कांग्रेस राजद गठबंधन वाली लालटेन के भाव में तेजी बताई जा रही है। बाजार के अनुमान पर यकीन करे तो सट्टा के दौड़ में भाजपा ठीक ढंग से खड़ी भी नहीं हो पा रही है। दिग्गजों की जीत हार पर ही नहीं बल्कि मतों के उनके अंतर पर भी सट्टा शुरू हो गया है। 
इधर, महागठबंधन के राजद को एमवाई समीकरण और सवर्ण वोट के कारण जीत का प्रबल दावेदार बताया जा रहा है। यही कारण है कि सटोरिये राजद प्रत्याशी सरफराज आलम की जीत पर सट्टा लगा रहे हैं। हलांकि भाजपा के पार्टी अधिकारी इन बातों से साफ इंकार करते हैं।
भाजपा में भीतरघात के कारण बाजार नरम  
सटोरियों की मानें तो शुरू से ही भाजपा के कुछ कार्यकर्ताओं सहित पदाधिकारियों द्वारा प्रत्याशी के विरोध में अभियान चलाने तथा महागठबंधन को अंदर ही अंदर मदद करने के कारण सट्टा बाजार में इनका भाव नरम रहा। बता दें कि ऊपर के अधिकारी सहित उपमुख्यमंत्री तक शुरू से ही चिंतित थे और आपसी सामंजस्य बनाने की कोशिश करते रहे।
Loading...