BIG BREAKING 2000 के नोट भी हो जाएंगे बंद- गुरुमूर्ति

नई दिल्ली: नोटबंदी के बाद सरकार ने 500 और 1000 के नोट बंद कर दिये। उसकी जगह पर 500 के नए नोट और साथ में 2000 के नोट जारी किये। 8 नवंबर को नोटबंदी का एलान किया गया था उसके बाद 2000 के नोट जारी किये गए। लेकिन इस नए 2000 के नोट की उम्र ज्यादा नहीं है। अगले पांच साल में 2000 के नोट को भी बंद कर देगी सरकार। ये बात कही है जानेमाने अर्थशास्त्री और संघ विचारक गुरुमूर्ति ने।

संघ के आर्थिक विचारक गुरुमूर्ति में न्यूज चैनल ‘आज तक’ से बातचीत में कहा कि सरकार 2000 के नोट को भी बंद कर देगी। गुरुमूर्ति के मुताबिक अगले पांच साल में इस 2000 के नोट को बंद कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार छोटे नोटों पर ज्यादा भरोसा जता रही है। और योजना के मुताबिक आनेवाले दिनों में सबसे बड़ा नोट 500 रुपये का होगा। गुरुमूर्ति ने ये भी कहा कि सरकार ढाई सौ रुपये के नोट भी लेकर आएगी।

अब सबके मन में ये सवाल उठ रहा है कि अगर 2000 के नोट को जल्द ही बंद कर दिया जाएगा तो इसे छापा क्यों गया? इसका भी जवाब गुरुमूर्ति ने दिया। गुरुमूर्ति ने कहा कि नोटबंदी के बाद जो नोटों की किल्लत सामने आई थी उस कमी को पूरा करने के लिए 2000 के नोट छापे गए। इसका मकसद ये था कि कम वक्त में कैश की किल्लत दूर की जाए।

सरकार ने जब नोटबंदी में 500 और 1000 रुपये के नोट बंद कर दिये तो ये भारत में चलन में रही कुल करंसी का 86 फीसदी था। इतनी बड़ी मात्रा में नकदी एक झटके में अगर अर्थव्यवस्था से बाहर हो जाने पर अर्थव्यवस्था के लिए इसके गंभीर हालात खड़े हो सकते थे। उस कमीं को कम वक्त में पूरा किया जाए इसी मकसद से सरकार ने 2000 रुपये के नोट जारी करवाए।

गुरुमूर्ति के इस बयान के बाद अब उन्हें भी अपने सवालों का जवाब मिल गया होगा जो लोग ये पूछते थे कि अगर भ्रष्टाचार और कालाधन बाहर निकालने के लिए 500 और 1000 रुपये के नोट बंद किये गए तो फिर सरकार 2000 के नोट लेकर क्यों आई। गुरुमूर्ति का बयान उसी सवाल का जवाब है। गुरुमूर्ति काफी जानेमाने अर्थशास्त्री माने जाते हैं। और उनसे कई बार आर्थिक मामलों पर सलाह भी ली जाती है।

Loading...