कुलभूषण की फांसी पर नवाज शरीफ बेनकाब, मोदी सरकार ने कहा पाकिस्तान का दावा झूठा

नई दिल्ली: कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाने के बाद पाकिस्तान की मंशा पर सवाल उठ रहे हैं। क्योंकि इस मामले की सुनवाई में भारत की हर मांग को पाकिस्तान ने खारिज किया था। कुलभूषण जाधव के मामले पर भारत सरकार की तरफ से पाकिस्तानी सरकार से 13 बार संपर्क किया गया। लेकिन ना तो भारतीय अधिकारियों को कुलभूषण से मिलने दिया गया और ना ही कुलभूषण को वकील रखने दिया गया।

इस मामले को लेकर संसद के दोनों सदनों में सत्ता पक्ष और विपक्ष के सांसदों ने पाकिस्तान की नीयत पर सवाल उठाए। कांग्रेस की तरफ से मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा पाकिस्तान की अदालत में जिस तरह से कुलभूषण जाधव को भारत का जासूस बताकर उसे फांसी की सजा सुनाई गई है वो हत्या करने के समान है।

ये भी पढें :

– पाकिस्तान ने इस भारतीय को सुनाई मौत की सजा, जासूसी का लगाया था आरोप
-42,000 फीट की ऊंचाई पर जब विमान में अचानक आ गया एक नया मेहमान

वहीं गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कुलभूषण जाधव पर कहा पाकिस्तान शुरु से ही झूठ बोलता रहा है। उन्होंने कहा पाकिस्तान की तरफ से कहा गया कुलभूषण जाधव को भारतीय पासपोर्ट के साथ गिरफ्तार किया गया था। लेकिन दूसरी तरफ पाकिस्तान ने कहा था वो रॉ का एजेंट है। राजनाथ सिंह ने कहा अगर उसके पास भारत का पासपोर्ट था तो फिर वो रॉ का एजेंट कैसे हुए। यहां खासबात ये है कि जिसे जासूसी के काम में लगाया जाता है उसकी असली पहचान जाहिर नहीं की जाती है। ये भी नहीं बताया जाता है कि वो किस देश का नागरिक है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने ईरान से कुलभूषण का अपहरण किया था। उन्होंने सदन में कहा कि कुलभूषण के लिए भारत सरकार को जो भी जरुरी होगा वो करेगी।

suhma-swaraj

इस मामले पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कुलभूषण जाधव को झूठे आरोप में फंसाया गया है। पाकिस्तान की तरफ से जासूसी के आरोप सरासर गलत हैं। एक साजिश के तहत कुलभूषण को सजा सुनाई गई है। उनके खिलाफ जासूसी के कोई सबूत नहीं हैं। विदेश मंत्री ने कहा कुलभूषण को बचाने के लिए भारत सरकार हर मुमकिन कोशिश करेगी।

Loading...