abu-jundal

औरंगाबाद आर्म्स केस में अबु जुंदाल समेत 11 दोषी करार, मोदी को मारने की थी साजिश

औरंगाबाद आर्म्स केस में अबु जुंदाल समेत 11 दोषी करार, मोदी को मारने की थी साजिश

मुंबई की मकोका अदालत ने औरंगाबाद आर्म्स केस में फैसला सुना दिया है। अदालत ने इस मामले में अबु जुंदाल समेत 11 लोगों को दोषी करार दिया है। इनकी सजा का एलान कल होगा। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में 8 मई 2006 को हथियारों के जखीरे से भरी गाड़ी पकड़ी गई थी। जिसे अबु जुंदाल चला रहा था। इस मामले में कुल 21 आरोपी थे। जिनमें से 10 आरोपियों को बरी कर दिया गया।

जुंदाल पर 26/11 को मुंबई में हुए आतंकी हमले का साजिश रचने का भी आरोप था। पूछताछ में एक जानकारी ये भी निकलकर सामने आई थी कि मुंबई हमले में गिरफ्तार आतंकी कसाब को जुंदाल ने ही हिंदी सिखाई थी। हलांकि जुंदाल इन साजिशों में शामिल होने से इनकार करता रहा।

कोर्ट ने जिन आरोपियों को बरी किया है उनमें फिरोज देशमुख भी शामिल है। जो विवादित जाकिर नाइक के इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन का लाइब्रेरियन था।

जुंदाल को 27 मई 2013 को सऊदी अरब से डिपोर्ट किया गया था। पहले उसे एनआईए ने अपनी कस्टडी में लिया। फिर उसे मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने 26/11 के मुंबई हमले के केस में उसकी कस्टडी ली। जुंदाल को महाराष्ट्र एटीएस ने औरंगाबाद आर्म्स केस में आरोपी बनाया था। औरंगाबाद आर्म्स एक्ट में उसका नाम जैबुद्दीन अंसारी है। 2006 में पाकिस्तान पहुंचने पर आईएसआई और लश्कर ए तैयबा ने उसना नाम बदलकर अबु जुंदाल रख दिया।

मामले की सुनवाई में जो सबूत पेश किये गए उसके आधार पर कोर्ट ने माना कि हमले के लिए हथियार पाकिस्तान से लाए गए थे। कोर्ट ने ये भी माना की इन हथियारों से ये गोधरा दंगों का बदला लेना चाहते थे। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि ‘यह साफ होता है कि इन हथियारों के जरिये आरोपी शांति भंग करने की साजिश रच रहे थे। इन लोगों ने नरेंद्र मोदी और प्रवीण तैगड़िया को भी मारने की साजिश रची थी।‘

Loading...

Leave a Reply