AAP को छोड़ने के बाद बोले आशुतोष ‘पार्टी ने मेरी जाति का किया इस्तेमाल‘

नई दिल्ली:  AAP को छोड़ने के बाद आशुतोष ने भी वही किया जो अकसर दूसरे नेता करते हैं। पार्टी से बाहर होने या बाहर किये जाने के बाद अकसर नेता अपनी पुरानी पार्टी पर हजारों सवाल खड़े करते हैं। दरअसल ये उनकी झल्लाहट होती है जिसकी वजह से अपनी पुरानी पार्टी को कटघरे में खड़ा कर खुद के लिए नया ठिकाना तलाश करते हैं। राजनीतिक में ये रवायत काफी पुरानी है। आशुतोष भी उसी रवायत को आगे बढ़ा रहे हैं।

आशुतोष ने बुधवार को एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा 23 साल के पत्रकारिता के करियर में कभी किसी ने मुझसे मेरी जाति या उपनाम नहीं पूछा। मैं हमेशा मेरे नाम से ही जाना जाता रहा। लेकिन जब मुझे 2014 लोकसभा चुनाव लड़ने के दौरान कार्यकर्ताओं से मिलवाया गया तो मेरे सरनेम का इस्तेमाल किया गया। हलांकि मैंने इसका विरोध किया था। लेकिन तब मुझे कहा गया सर, आप कैसे जीतोगे। आपकी जाति के यहां काफी वोट हैं।


यहां ये सवाल भी उठता है कि आशुतोष इन बातों को अब क्यों बता रहे हैं। चार साल तक क्या वो इस बात से अनजान थे। या फिर वो पार्टी से किसी लाभ की उम्मीद से चार साल तक जुड़े रहे और जब खाली हाथ रहे तो पार्टी से इस्तीफा देकर अब अपनी ही पार्टी को कटघरे में खड़ा करने की सियासत की पुरानी नीति पर चल रहे हैं।

Loading...