मोदी के ‘मन की बात’ के जवाब में केजरीवाल का ‘टॉक टू AK’

केंद्र में जब मोदी सरकार बनी तो जनता से संवाद के लिए पीएम मोदी ने रेडियो पर ‘मन की बात’ कार्यक्रम की शुरुआत की। इसके पीछे मकसद ये था कि सरकार और जनता के बीच दूरी कम की जाए और सरकार के कामकाज और फैसलों में जनता की सलाह को भी शामिल किया जाए।

mann-ki-baat-narender-modiपीएम नरेंद्र मोदी के ‘मन की बात’ के जवाब में अब दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी जन संवाद का कार्यक्रम शुरु कर रहे हैं। जिसका नाम रखा गया है ‘टॉक टू AK।‘ इसी महने 17 जुलाई से इस कार्यक्रम की शुरुआत होगी। जिसमें सीएम केजरीवाल जनता के सावलों का सीधे जवब देंगे।

दिल्ली सरकार के सूत्रों के मुताबिक इस तरह के कार्यक्रम का मकसद आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार के खिलाफ बन रहे माहौल पर पार्टी और सरकार का पक्ष रखना है । यानि प्रधानमंत्री बनने के बाद से जिस तरह से पीएम मोदी मन की बात करते रहे उसी तरह से दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ‘जनता के मन की बात’ करेंगे। यह कार्यक्रम हर महीने एक घंटे के लिए होगा।

इस कार्यक्रम के लिए www.talktoak.com के नाम से एक वेबसाइट की शुरुआत भी कर दी गई है। जिसपर फिलहाल काउंडडाउन चल रहा है। इस वेबसाइट को सोशल मीडिया के दूसरे प्लेटफॉर्म यानि ट्वीटर, फेसबुक, यूट्यूब से जोड़ा जाएगा। ताकि अलग अलग प्लेटफॉर्म से जनता केजरीवाल से सवाल पूछ सके।

talktoak2‘टॉक टू AK’ कार्यक्रम की शुरुआत करने की एक बड़ी वजह ये है कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार बने 17 महीने हो चुके हैं। इन 17 महीनों मे उसके 8 विधायक गिरफ्तार हो चुके हैं। बाद में जमानत लेकर बाहर निकले। अब तो खुद केजरीवाल के प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी इसे केंद्र की मोदी सरकार की साजिश बता रही है। सवाल आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार से ये पूछे जा रहे हैं कि आखिर वो एक अधिकारी का बचाव क्यों कर रही है। जबकि राजेंद्र कुमार पर करप्शन के चार्ज शीला दीक्षित के कार्यकाल के हैं। फिर मौजूदा दिल्ली सरकार इतनी दुखी क्यों हो रही है।

दूसरी तरफ दिल्ली सरकार के एक और मंत्री कपिल मिश्रा से टैंकर घोटाले में एसीबी की पूछताछ चल रही है। 400 करोड़ के टैंकर घोटाले में केजरीवाल पर 11 महीने तक फाइल दबाकर रखने का आरोप है।

इतने सारे विवादों में फंसी आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार को लेकर जनता का मूड न बदल जाए शायद इसी वजह से अब टॉक टू AK’ की जरुरत महसूस की गई। केजरीवाल सरकार की तरफ से ये पहली कोशिश है जनता के साथ जुड़ने का। इससे पहले गूगल हैंगआउट था लेकिन उसपर केवल कार्यकर्ताओं के सवालों के जवाब दिये जाते थे।
-Arvind Kejriwal, Delhi Chief Minister, PM Modi Mann Ki Baat, talktoak

Loading...