चीन की धमकी बेअसर, भारत अरुणाचल प्रदेश में दलाई लामा का करेगा भव्य स्वागत




नई दिल्ली: धर्म गुरु दलाई लामा के अरुणाचल प्रदेश यात्रा पर चीन की चेतावनी, विरोध और धमकी बेअसर रही। क्योंकि भारत ने साफ कर दिया है कि दलाई लामा की इस धार्मिक यात्रा पर किसी तरह की रोक नहीं लगेगी। भारत ने कहा है कि दलाई लामा धार्मिक यात्रा के तहत अरुणाचल प्रदेश आ रहे हैं।

चीन को उसी की भाषा में जवाब देते हुए कहा गया कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है। और उन्हें देश के किसी हिस्से में जाने से नहीं रोका जा सकता। वहीं चीन की तरफ से भारत के इस फैसले को भड़काऊ बताया गया है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा चीन इस बात को लेकर चिंतित है कि भारत ने दलाई लामा को अरुणाचल प्रदेश की यात्रा की अनुमति दी है। यह द्विपक्षीय संबंध और विवादित सीमावर्ती इलाके में शांति को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है।

भारत के गृह राज्य मंत्री किरण रिजीजू ने कहा भारत की तरफ से यह बड़ा बदलाव है। हम ज्यादा मजबूत हैं। दलाई लामा अरुणाचल प्रदेश में एक धर्मगुरु के तौर पर जा रहे हैं। और उनको रोकने की कोई वजह नहीं है। उनके श्रद्धालु दलाई लामा की यात्रा की मांग कर रहे हैं। वह किसी दूसरे को क्या नुकसान पहुंचा सकते हैं। वह लामा हैं।

चीन की ये बौखलाहट इसलिए है क्योंकि वो अरुणाचल प्रदेश को दक्षिण तिब्बत का हिस्सा बताते हुए उसपर अपना दावा जताता रहा है। चीन इस क्षेत्र में भारतीय नेताओं और विदेशी प्रतिनिधियों की यात्रा का भी विरोध करता रहा है। चीन ने दिसंबर 2016 में तिब्बत के आध्यात्मिक धर्मगुरु 17वें करमापा उग्येन त्रिनले दोरजी की अरुणाचल यात्रा का भी विरोध किया था। 2016 में अमेरिकी राजदूत रिचर्ड वर्मा के अरुणाचल दौरे के वक्त भी चीन ने अपना विरोध दर्ज किया था।

Loading...

Leave a Reply