कश्मीर में सेना को ऑपरेशन से रोकने वालों को आतंकी माना जाएगा-सेना प्रमुख




नई दिल्ली: थल सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत ने आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान पत्थर फेंकनेवालों को सख्त चेतावनी दी है। सेना प्रमुख ने साफ तरीके से कहा है कि सेना को अपना काम करने से रोकनेवालों को बख्शा नहीं जाएगा। उनसे कड़ाई से निपटेगी सेना। सेना प्रमुख ने कहा कि अगर जरुरत पड़ी तो उनके खिलाफ हथियारों के इस्तेमाल से भी परहेज नहीं किया जाएगा।

सेना प्रमुख सख्त लहजे में कहा कि जो स्थानीय लोग आतंकवाद को जारी रखना चाहते हैं और पाकिस्तान के साथ-साथ ISIS के झंडे लहरा रहे हैं उन्हें हम देशद्रोही के तौर पर देखेंगे और किसी भी सूरत में उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। सेना प्रमुख ने जम्मू कश्मीर में मुठभेड़ में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देने के बाद ये बात कही।

सेना प्रमुख ने इस तरह की सख्ती इसलिए दिखाई है क्योंकि हाल के दिनों में कई बार देखा गया है कि आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान स्थानीय लोग सेना पर पत्थर फेंकते हैं। और आतंकियों को बचकर भागने का मौका देने की कोशिश करते रहे हैं।

मंगलवार को कश्मीर में दो अलग अलग मुठभेड़ में एक मेजर समेत सेना के 4 जवान शहीद हो गए। सेना ने मुठभेड़ में चार आतंकियों को भी मार गिराया था। कुपवाड़ा में सेना ने एक घर में छिपे 3 आतंकियों को मार गिराया था। इस मुठभेड़ में गंभीर रुप से घायल हुए मेजर एस. दहिया बाद में शहीद हो गए।

Loading...

Leave a Reply