आनंदी बेन पटेल से छिनेगी गुजरात के CM की कुर्सी ?

आनंदी बेन पटेल से छिनेगी गुजरात के CM की कुर्सी ?

गुजरात की सीएम आनंदी बेन पटेल को मुख्यमंत्री पद से हटाया जा सकता है। सूत्रों के हवाले आ रही खबरों के मुताबिक आनंदी बेन पटेल के कामकाज से पार्टी के आलाकमान खुश नहीं है। जिस वजह से अब उन्हें सीएम के पद से हटाने पर विचार किया जा रहा है। हलांकी अभी किसी ने भी इस बात की पुष्टि नहीं की है। लेकिन सूत्र ये बता रहे हैं कि गुजरात सीएम के पद पर आनंदी बेन पटेल अब बस कुछ दिनों के लिए ही हैं।

बताया ये भी जा रहा है कि आनंदी बेन पटेल की जगह नितिन पटेल को गुजरात का सीएम बनाया जा सकता है। नितिन पटेल का नाम सीएम की रेस में सबसे आगे बताया जा रहा है। सीएम के लिए एक नाम विजय आर रुपानी का भी लिया जा रहा है। गुजरात बीजेपी में विजय आर रुपानी एक पावर सेंटर बन चुके हैं। रुपानी का पकड़ का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि कई मौकों पर सीएम के मौजूद रहने के बावजूद एलान रुपानी की तरफ से किया जाता है। इसलिए सीएम की रेस में रुपानी का नाम भी लिया जा रहा है। सूत्र ये भी बता रहे हैं की 20 मई तक गुजरात के सीएम पर फैसला हो सकता है। सूत्रों के मुताबिक आनंदी बेन पटेल को किसी राज्य का राज्यपाल बनाया जा सकता है।

नरेंद्र मोदि के प्रधानमंत्री बनने के बाद काफी उम्मीद के साथ आनंदी बेन पटेल को मोदी की जगह गुजरात का सीएम बनाया गया था। उस वक्त कुछ विधायक आनंदी बेन पटेल को सीएम बनाए जाने के पक्ष में नहीं थे। लेकिन चुकी खुद नरेंद्र मोदी ने आनंदी बेन पटेल का नाम सभी के सामने रखा था इसलिए उसमें विरोध की गुंजाइश नहीं बची।

हाल के दिनों में हुए पाटीदार आंदोलन के बाद आनंदी बेन पटेल की क्षमता पर सवाल उठ रहे थे। आंदोलन जिस तरह से उग्र हुआ उसके पीछे कहीं न कहीं राज्य सरकार की तरफ से की गई कोशिशों में कमी बताई जा रही थी। जिसके लिए सीधे तौर पर आनंदी बेन पटेल को जिम्मेदार ठहराया जा रहा था। उसके बाद से ही उन्हें हटाने की बातें सामने आने लगी थी।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और आनंदी बेन पटेल दोनों नरेंद्र मोदी की बेहद करीबी हैं। इसमें कोई शक नहीं। लेकिन ऑफ द कैमरा ये बात भी हो रही है कि अमित शाह और आनंदी बेन पटेल के बीच सबकुछ सामान्य नहीं है। दोनों के बीच तल्खी बनी रहती है। ये भी एक वजह है कि उनसे गुजरात की कमान वापस लेने की तैयारी हो रही है। जिसके पीछे तर्क ये दिया जा रहा है कि 2017 का विधानसभा चुनाव जीतने के लिए आनंदी बेन पटेल को हटाना जरुरी है।

अब सवाल ये उठ रहा है कि आखिर इस वक्त गुजरात में इस बदलाव की वजह क्या है। गुजरात में 2017 नवंबर-दिसंबर में विधानसभा चुनाव होना है। चुनाव से पहले बीजेपी राज्य में एक सक्षम और सबल सीएम को देखना चाहती है। पाटीदार आंदोलन के बाद आनंदीबेन की क्षमता सवालों में घिर चुकी है। पार्टी उनके भरोसे गुजरात में अपनी सत्ता बरकरार रखने में मुश्किल महसूस कर रही है। और बीजेपी के हाथ से अगर गुजरात निकल जाता है ये पूरी पार्टी के साथ-साथ नरेंद्र मोदी के लिए एक बहुत बड़ी हार होगी। और किसी भी हाल में बीजेपी ये जोखिम नहीं उठाना चाहेगी। इसलिए समय रहते गुजरात के सीएम में बदलाव कर पार्टी नुकसान की भरपाई करना चाहती है।

Loading...

Leave a Reply