barack-obama-narender-modi-nsg-membership

चीन करता रहे विरोध, NSG में भारत की एंट्री होकर रहेगी- US

चीन करता रहे विरोध, NSG में भारत की एंट्री होकर रहेगी- US

चीन के विरोध की वजह से सोल में हुए NSG की बैठक में भले ही भारत को थोड़ी निराशा हाथ लगी। लेकिन सभी रास्ते बंद हो गए ऐसा नहीं है। क्योंकि अमेरिकी विदेश विभाग में राज्य मंत्री स्तर के अधिकारी ने कहा है कि NSG में भारत को एंट्री दिलाने के लिए अमेरिका प्रतिबद्ध है। वरिष्ठ राजनयिक टॉम शैनन ने चीन के विरोध की वजह से भारत को नहीं मिली सदस्यता पर दुख भी जताया।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय में राज्य सचिव स्तर के अधिकारी टॉम शैनन ने भारत को एशिया प्रशांत क्षेत्र में स्थिरता का वाहक बताते हुए ये भी कहा कि ‘दक्षिण चीन सागर में चीन जो कर रहा है वह पागलपन है और अमेरिका चाहता है कि हिंद महासागर में नई दिल्ली बड़ी भूमिका निभाए।‘
शैनन ने विदेश सेवा संस्थान के कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि ‘चीन की बढ़ती ताकत को संतुलित करना एक बड़ी चुनौती है। अमेरिका भारत के साथ काम करना चाहता है जिससे कि हिंद महासागर में मजबूत और व्यापक मौजूदगी दर्ज कराई जा सके।‘

परमाणु अप्रसार के क्षेत्र में भारत को भरोसेमंद और अहम शक्ति बताते हुए शैनन ने कहा कि ‘हम इस बात पर प्रतिबद्ध हैं कि भारत NSG में शामिल हो। हमारा मानना है कि हमने जिस तरह का काम किया है और भारत ने जिस तरह से खुद को साबित किया है, वह इसका हकदार है।‘ NSG में भारत की एंट्री पर चीन के विरोध पर उसकी आलोचना करते हुए शैनन ने कहा कि ‘हम मानते हैं कि सहमति आधारित संगठन में एक देश सहमति को तोड़ सकता है, लेकिन ऐसा करने पर उसे जवाबदेह बनाया जाना चाहिए न कि अलग-थलग किया जाना चाहिए।‘

शैनन ने 29 जून को विदेश सचिव एस. जयसंकर से मुलाकात भी की। मुलाकात में उन्होंने कहा कि ‘हाल में भारत को MTCR में शामिल करना बताता है कि परमाणु अप्रसार के रास्ते पर जिम्मेदार और अहम देश है। हमें दुख है कि सोल में हम भारत को NSG में प्रवेश नहीं दिला सके। दोनों देशों को ये सुनिश्चित करने के लिए काम करना होगा कि अगली बार NSG में भारत की कोशिश कामयाब रहे। मेरा मानना है कि हम आगे बढ़ें, भारत और अमेरिका मिल बैठकर विमर्श करें कि सोल में क्या हुआ, राजनयिक प्रक्रिया पर नजर रखें और देखें कि अगली बार सफल होने के लिए और क्या किया जा सकता है।‘

सोल की नाकामी के बाद अब ये बात भी सामने आ रही है कि दिसंबर में NSG की स्पेशल बैठक हो सकती है। जिसमें ये तय किया जाएगा कि NPT पर दस्तखत करनेवाले देशों को किस तरह से NSG में एंट्री दी जा सकती है। जाहिर तौर पर उसमें जिक्र भारत पर भी होगा।
-NSG Membership, Narender Modi, Barack Obama

Loading...

Leave a Reply