ALLHABAD HC TEEN TALAQ

तीन तलाक: संविधान से ऊपर नहीं मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड- इलाहाबाद HC

तीन तलाक: संविधान से ऊपर नहीं मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड- इलाहाबाद HC

नई दिल्ली:  तीन तलाक के नाम पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और शरियत की दुहाई देनेवेलों पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गंभीर टिप्पणी की है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा कि देश के संविधान से ऊपर नहीं है मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड। संविधान का उल्लंघन है तीन तलाक। संविधान के दायरे में ही है पर्सनल लॉ लागू हो सकता है। पर्सनल लॉ के नाम पर महिलाओं के संवैधानिक अधिकार का उल्लंघन नहीं हो सकता है।

इसे भी पढ़ें

AAP ने दिल्ली विधानसभा में EVM टेंपरिंग पर दिया लाइव डेमो, कहा 90 सेकेंड काफी है

हाईकोर्ट ने तीन तलाक से जुड़े मामले की सुनवाई करते वक्त ये टिप्पणी की। कोर्ट ने कहा पर्सनल लॉ के नाम पर मुस्लिम महिलाओं समेत सभी नागरिकों को मिले आर्टिकल 14,15 और 21 के मूल अधिकारों का उल्लंघन नहीं किया जा सकता है। जिस समाज में महिलाओं का सम्मान नहीं हो सकता उसे सभ्य नहीं कहा जा सकता है।

इसे भी पढ़ें

Live सर्कस में शेर अपने ट्रेनर का गर्दन चबा गया, जान बचाकर भागे दर्शक, Video

Live सर्कस में शेर अपने ट्रेनर का गर्दन चबा गया, जान बचाकर भागे दर्शक, Video

मुस्लिम समाज में फतवे की प्रथा पर हाईकोर्ट ने कहा कोई भी ऐसा फतवा मान्य नहीं हो सकता जो न्याय व्यवस्था के खिलाफ हो। इस मामले पर अगली सुनवाई अब 11 मई को होगी।

Loading...

Leave a Reply