पाकिस्तन में है अमेरिका का सबसे बड़ा दुश्मन और उसे ISI दे रहा है सुरक्षा

नई दिल्ली:  पाकिस्तान आतंकियों का मददगार है ये बात एकबार फिर साफ हो गई है। अमेरिकी मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक अमेरिका का सबसे बड़ा दुश्मन पाकिस्तान में रह रहा है। और उसे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI पूरी सुरक्षा दे रहा है। मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि जवाहिरी के कराची में छिपे होने की जानकारी तो है। लेकिन कराची में किस जगह पर जवाहिरी मौजूद है इस बारे में पता नहीं चल सका है।

अमेरिका की वीकली मैगजीन न्यूजवीक के मुताबिक उसने जो रिपोर्ट छापी है वो की आधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी पर आधारित है। न्यूजवीक ने इस रिपोर्ट में कहा है 2001 में अमेरिकी सुरक्षा एजेंसियों ने अल कायदा को अफगानिस्तान से खदेड़ दिया। जिसके बाद से ही पाकिस्तान की ISI अल जवाहिरी को बचा रही है।

न्यूजवीक ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि पाकिस्तान में जवाहिरी का संभावित ठिकाना कराची में है। इस शहर की आबादी तकरीबन ढाई करोड़ है। काफी लंबे वक्त के बाद इस तरह की खबर सामने आई है कि खतरनाक आतंकी का पनाहगार पाकिस्तान का कराची बना है। जवाहिरी ओसामा बिन लादेन का उत्ताधिकारी है। और पाकिस्तान के ऐबटाबाद में लादेन के मारे जाने के बाद से आयमान अल जवाहिरी ही अल कायदा का सरगना है।

मैगजीन ने अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए में शामिल रहे बूरस राइडेल के हवाले से बताया जवाहिरी के ठिकाने के बारे में कोई सबूत नहीं है। राइडेल पिछले चार अमेरिकी राष्ट्रपतियों के साथ दक्षिण एशिया और मध्य पूर्व मामलों में शीर्ष सलाहकार के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं। राइडेल के मुताबिक ऐबटाबाद जहां लादेन मारा गया था, वहां कुछ ऐसी सामग्रियां पाई गई थीं जिससे ये संकेत मिलते हैं। कराची में जवाहिरी के छुपने की वजह भी है। क्योंकि वह उस जगह पर खुद को काफी महफूज महसूस करेगा जहां अमेरिकी नहीं आ सकते। क्योंकि ऐसी जगहों पर उसे पकड़े जाने का डर नहीं होगा।

राइडेल ने बताया कि कराची में अमेरिका के लिए उस तरह की छापेमारी करना काफी मुश्किल है जैसा ऐबटाबाद में किया गया था। जहां पर 2 मई 2011 को की गई कार्रवाई में ओसामा बिन लादेन मारा गया था।

Loading...