समाजवादी पार्टी में फिर चाचा-भतीजा में दंगल, अखिलेश ने 403 उम्मीदवारों की लिस्ट सौंपी




लखनऊ: विधानसभा चुनाव से पहले एक बार फिर समाजवादी पार्टी में हंगामा शुरु हो गया है। इसबार भी किरदार वही हैं जो पहले वाले हंगामे में थे। सीएम अखिलेश यादव और यूपी में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल यादव के बीच विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारों को लेकर लड़ाई शुरु हो चुकी है। अखिलेश यादव ने 403 उम्मीदवारों की लिस्ट सपा अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव को सौंपी है। खासबात ये है कि शिवपाल यादव पहले ही 175 उम्मीदवारों के नामों का एलान कर चुके हैं।

सूत्रों के मुताबिक अखिलेश यादव ने उम्मीदवारों की जो लिस्ट सौंपी है उसमें मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद और अमनमणि का नाम शामिल नहीं है। अखिलेश ने अपनी लिस्ट में उन नामों को भी शामिल किया है जिनका पत्ता शिवपाल यादव ने काट दिया था। इस लिस्ट में 40 मौजूदा विधायकों के नाम काटे गए हैं। अखिलेश ने उन विधायकों के टिकट काटे हैं जो अपने क्षेत्र की जनता की मांगों को पूरा कर पाने में नाकामयाब रहे।

अखिलेश की तरफ से ये कदम उठाए जाने के बाद शिवपाल यादव ने ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने कहा है कि पार्टी में अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। लेकिन इस बात की संभावना कम दिखाई दे रही है कि शिवपाल के इस ट्वीट से अखिलेश मान जाएंगे। क्योंकि जिस तरह से अखिलेश ने 403 उम्मीदवारों की लिस्ट मुलायम सिंह को सौंपी है उससे ये संदेश भी दिया गया है कि चुकी राज्य के सीएम वो हैं इसलिए उम्मीदवारों का चयन भी वही करेंगे।

दूसरी तरफ शिवपाल हैं। जो यूपी के सपा अध्यक्ष भी हैं और जिनके उपर उम्मीदवारों के चयन की जिम्मेदारी भी है। अपने इसी अधिकार के तहत शिवपाल उम्मीदवारों की लिस्ट तैयार कर सपा अध्यक्ष मुलायम सिंह के पास भेज रहे हैं। यहां दिक्कत ये है कि जिस नाम का चयन शिवपाल कर रहे हैं वो अखिलेश को मंजूर नहीं और अखिलेश उम्मीदवारों का चयन करें ये शिवपाल को मंजूर नहीं। इसी दो सोच के बीच कलह की आग सुलग रही है।

अब ये देखना और जनना दिलचस्प रहेगा कि चाचा-भतीजा की इस लड़ाई को पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव किस तरह से काबू में करते हैं। क्योंकि कुछ महीने पहले की ही बात है जब दोनों के बीच की लड़ाई सड़कों पर पहुंच गई थी। इस बार ये लड़ाई अपने किस हद तक पहुंचती है इसके लिए थोड़ा इंतजार करना होगा।

Loading...