चचा शिवपाल को 9 नहीं 13 मंत्रालय, बोनस में प्रदेश अध्यक्ष, लेकिन PWD नहीं मिला

लखनऊ: परिवार की लड़ाई जब सड़क पर आई तो एक पार्टी के समर्थक अपने अपने नेता को पकड़कर बैठ गए। पार्टी एक ही थी लेकिन उसके समर्थक दो फाड़ नजर आ रहे थे। शुक्रवार से लेकर शनिवार के बीच कई मौके ऐसे आए जब दोनों गुट के समर्थक आपस में भिड़ते-भिड़ते रह गए। ऐसा इसलिए हो रहा था क्योंकि समाजवाद के चाचा और भतीजा एक दूसरे के विरोधी हो गए थे। दोनों में मुकाबला इस बात का हो रहा था कि किसके पास कितना अधिकार रहेगा और कौन किसे पटखनी देगा।

अपने पुत्र और अनुज के बीच छिड़े इस जंग को शांत करने खुद मुलायम सिंह यादव मैदान में आए। लेकिन हालात को संभालकर सबकुछ पटरी पर लाना इतना आसान नहीं था। खैर जैसे तैसे कई दौर की बैठक, मुलाकात और मीटिंग के बाद ये तय हुआ कि शिवपाल यादव समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बने रहेंगे। पिछले दिनों शिवपाल यादव से 7 मंत्रालय छीन लिये गए थे। जिसमें काफी अहम PWD मंत्रालय भी था। तब शिवपाल के पास 9 मंत्रालय हुआ करते थे। लेकिन अब वो केवल दो मंत्रालय के मंत्री होकर रह गए थे। नया फैसला ये भी हुआ कि शिवपाल को बोनस के साथ सभी मंत्रालय लौटाए जाएं। इस तरह से जो शिवपाल पहले 9 मंत्रालय संभालते थे अब उनके पास 13 मंत्रालय हो गए। लेकिन PWD मंत्रालय दोबारा नहीं मिला। उसे अखिलेश यादव ने अपने लिए पसंद कर लिया।

इस तरह से मुलायम फॉर्मूला के तहत पार्टी को एक रखने और चाचा और भतीजा के तकरार को टालने की कोशिश की गई। इसके बाद समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और चाचा शिवपाल यादव से मिलने सीएम अखिलेश उनके घर गए। दोनों ने दोपहर का खाना भी साथ खाया। बाहर आकर अखिलेश ने बस इतना कहा वो प्रदेश अध्यक्ष से नहीं अपने चाचा से मिलकर आ रहे हैं।

उधर घर की इस लड़ाई को लेकर कार्यकर्ता दो दिनों से सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे थे। अखिलेश ने उन्हें भी शांत होकर काम करने को कहा। मुलायम सिंह यादव भी कार्यकर्ताओं से मिले। जिसमें उन्होंने एकबार फिर ये साफ कर दिया कि शिवपाल ही पार्टी के यूपी अध्यक्ष हैं। साथ ही मुलायम में ये भी कह दिया कि 2014 के लोकसभा चुनाव में अखिलेश ने जो कहा हमने वो किया। क्या हुआ पार्टी 5 सीटों पर सिमट गई। इससे बेइज्जती उनकी हुई या हमारी हुई। यानि एक तरह से मुलायम ने अखिलेश को ये संदेश भी दे दिया कि अभी अनुभव में कच्चे हो। चाचा को चाचा ही रहने दो।

Loading...

Leave a Reply