CM अखिलेश ने माना कि वो LEARNING CM हैं, दूसरी पारी होगी जोरदार

यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने उस सच को स्वीकार किया है जिसे स्वीकार करने से अक्सर राजनीतिक नेता कतराते हैं। अखिलेश यादव के कंधे पर अचानक काफी बड़ी जिम्मेदारी दी गई थी। राजनीतिक दृष्टिकोण से काफी अहम राज्य उत्तर प्रदेश का सीएम बनाया गया अखिलेश यादव को 2012 में।
अखिलेश के सीएम बनने के बाद से ही ये कहा जाता रहा कि अखिलेश केवल मुखौटा हैं यूपी की सरकार कोई और चला रहा है। विरोधी उन्हें लर्निंग सीएम कहते थे। बीजेपी ने अखिलेश पर निशाना साधते हुए कहा कि वो मुलायम वंश के आखिरी शासक हैं।

विरोधियों के इस आरोप पर खुद अखिलेश ने जवाब दिया है। एक समारोह में अखिलेश ने कहा ‘जब उन्हें यूपी का सीएम बनाया गया तो विरोधी कहते थे यूपी में 5 मुख्यमंत्री हैं। अब वही लोग कहते हैं यूपी में साढ़े तीन मुख्यमंत्री हैं।‘ अखिलेश ने आगे कहा ‘लोग उन्हें लर्निंग सीएम कहते थे। वो सही ही कहते थे। मैं लर्निंग सीएम ही था। लेकिन अब लर्निंग वाला फेज खत्म हो गया है और अगर दोबारा सरकार बनी तो वो पारी जोरदार होगी।‘

अखिलेश खुद भी ये मानते हैं कि इन पांच सालों में उन्होंने एक लर्निंग ड्राइवर की तरह लर्निंग सीएम बनकर प्रदेश में काम किया। खुद अखिलेश भी ये मानते हैं कि अब वो काफी कुछ सीख गए हैं। और मुख्यमंत्री के तौर पर उनके सीखने वाला वक्त खत्म हो चुका है। काफी कुछ उन्होंने सीखा है और अगर अगली बार यूपी में उनकी सरकार बनती है तो वो जोरदार तरीके से काम करके दिखाएंगे।
– Akhilesh Yadav, UP Chief Minister

Loading...