चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद पंजाब में AAP के जासूस हो जाएंगे एक्टिव




नई दिल्ली: पंजाब में गुरुवार शाम पांच बजे के बाद चुनाव प्रचार खत्म हो जाएगा। राजनीतिक दलों के लाउडस्पीकर के बंद होने के बाद आम आदमी पार्टी के जासूस राज्य के सभी बूथों पर सक्रिय हो जाएंगे। आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता राज्य के हर गली और हर मुहल्ले में विरोधियों की गतिविधियों पर नजर बनाए रखेंगे।

दरअसल आम आदमी पार्टी को शक है कि चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद विरोधी शराब और पैसे का खेल खेलेंगे। विरोधियों की इस रणनीति को फेल करने के लिए ही आम आदमी पार्टी ने पूरे पंजाब में अपने जासूस फैला दिये हैं। उन जासूसों को स्पाई कैम से लैस किया गया है। उस स्पाई कैम में AAP के जासूस विरोधियों की हर गलत गतिविधी रिकॉर्ड करेंगे। जिसे बाद में पार्टी चुनाव आयोग को सौंपेगी।

AAP ने पंजाब में 14 हजार 200 स्पाई कैम किराये पर लिये हैं। इस काम में पार्टी 16 हजार वॉलंटियर तैनात करेगी। जिनका काम राज्य भर में शराब और पैसे बांटने की रिकॉर्डिंग करना है। पार्टी ने गोवा में भी 1 हजार स्पाई कैम किराये पर लिये हैं। पंजाब और गोवा में 4 फरवरी को मतदान है। उसके लिए 2 फरवरी की शाम 5 बजे चुनाव प्रचार खत्म हो जाएगा। लेकिन AAP का मानना है कि असली चनौती चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद शुरु होगी। जब विरोधी चोरी छुपे लोगों में पैसे और शराब बांटकर मतदाताओं को प्रभावित करने की कोशिश करेंगे।

पार्टी ने इस तरह का प्रयोग दिल्ली में भी किया था। पार्टी का दावा है कि दिल्ली चुनाव में भी चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद विरोधियों ने जनता के बीच पैसे और शराब बांटे थे। उसी पुराने अनुभव से सीख लेते हुए आम आदमी पार्टी पंजाब में अपने जासूसों का जाल फैला रही है। ताकि किसी भी गड़बड़ी को सबूत के साथ पकड़ा जा सके।

आम आदमी पार्टी के नेता दिलीप पांडे ने बताया जासूसी में लगाए गए कार्यकर्ताओं को इसके लिए खास ट्रेनिंग दी गई है। उन्हें बताया गया है कि कैमरा को किस तरह से लगाया जाना है। कैसे उसे ऑन करना है। आम आदमी पार्टी के वॉलंटियर को ये भी बताया गया है कि कैमसे से रिकॉर्डिंग करने के बाद किस तरह से उस वीडियो को कंप्यूटर में सेव करना है। किस तरह से वीडियो का फोटो को आगे भेजना है।

पार्टी के कई बड़े नेता पंजाब में डेरा जमाए हुए हैं। दरअसल पंजाब की लड़ाई पार्टी की साख से जुड़ चुकी है। पार्टी का दावा है कि पंजाब की जनता बादल के जुल्म से परेशान है। पार्टी मौजूदा बीजेपी-अकाली सरकार पर कई गंभीर आरोप लगा चुकी है। उसके बाद AAP पंजाब में अकाली दल और कांग्रेस के लिए एक बड़ी चुनौती बनकर उभरी है। यही वजह है कि आखिर वक्त में भी पार्टी चैन से नहीं बैठना चाहती। क्योंकि पार्टी को इस बात का एहसास है कि सियासत में एक पल की भी लापरवाही बड़ा नुकसान करवा सकती है।

Loading...