सर्जिकल स्ट्राइक के बाद हाफिज और मसूद को बचाने में जुटी पाक सरकार

दिल्ली: बुधवार रात को POK में हुए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान में सियासी हलचल तेज है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ अपने मंत्रियों के साथ बैठक कर रहे हैं। POK में मारे गए आतंकियों के शव को दफनाने में खुद पाकिस्तानी सेना जुटी है। कोशिश ये की जा रही है कि हर उस सबूत को मिटा दिया जाए जिससे कि ये पता लग रहा हो की भारतीय सेना ने POK में किसी सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया है। और लॉन्चिंग पैड पर 40 आतंकी मारे गए हैं।

कश्मीर में हिजबुल आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद पाकिस्तानी सरकार के प्रवक्ता की तरह बोलने वाले आतंकी संगठनों के सरगना भी खामोश हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हाफिज सईद और मसूद अजहर को शांत रहने की हिदायत दी गई है। बुधवार के सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान भी ये महसूस कर रहा है कि अगर बात ज्यादा बढ़ी तो भारतीय फौज उनपर भारी पड़ेगी।

POK में हुए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान तक ये संदेश भी पहुंच चुका है कि इसबार भारत केवल कड़े शब्दों में निंदा और पाकिस्तान को सबूत सौंपकर ही शांत नहीं बैठेगा। पाकिस्तान को ये एहसास हो चुका है कि इसबार भारत आक्रामक है, और अगर अपने आतंकियों को शांत रहने की हिदायत नहीं दी गई तो कहीं पाकिस्तान को बड़ी कीमत न चुकानी पड़ सकती है।

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने कहा है कि पाकिस्तान सीमा पर किसी तरह का तनाव नहीं चाहता है। साथ ही आसिफ का ये भी कहना था कि पाकिस्तानी सेना हर हालात से निपटने के लिए तैयार है। हलांकि पाकिस्तान अब भी इस बात को नकार रहा है कि भारतीय सेना ने POK में किसी तरह का सर्जिकल स्ट्राइक किया है।

Loading...