वयस्क बच्चे अगर प्रताड़ित करें तो माता-पिता उसे संपत्ति से बेदखल कर सकते हैं-HC




नई दिल्ली: दिल्ली हाईकोर्ट ने सीनियर सिटीजन और वृद्ध माता-पिता के पक्ष में ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि कोई माता-पिता अपने उन वयस्क बच्चों को घर से निकाल सकते हैं जो उनके साथ दुर्व्यवहार करते हैं, उनके साथ मारपीट करते हैं। कोर्ट ने कहा ये फैसला किराए के मकान पर भी लागू होता है। यानि अगर माता-पिता किराये के मकान में रहते हैं फिर भी वो दुर्व्यवहार करने वाले अपने वयस्क बच्चों को घर से बेदखल कर सकते हैं।

मेनटेनेंस ऑफ वेलफेयर ऑफ पैरंट्स ऐंड सीनियर सिटीजन ऐक्ट 2007 के प्रावधानों का जिक्र करते हुए जज ने कहा कि सीनियर सिटीजंस मेनटेनेंस ट्राइब्यूनल इस बारे में निष्कासन ऑर्डर जारी कर सकता है। जिससे की माता-पिता आराम से रह सकें। और उनके साथ मारपीट करनेवाल उन बच्चों को घर में दाखिल होने से रोका जा सके। इसमें केवल मारपीट करना ही नहीं बल्कि मानसिक तौर से प्रताड़ित करना और धमकी देना भी शामिल है।

Loading...

Leave a Reply