तो केजरीवाल बनेंगे पंजाब के सीएम?

दिल्ली: राजनीति कब क्या रंग, रुप और मोड़ ले इसके बारे में कोई नहीं बता सकता। बस अंदाजा लगाया जा सकता है। पंजाब के बारे में ही अंदाजा ही लगाया जा रहा है। पंजाब में कुछ दिन पहले तक AAP में सबकुछ ठीक ही लग रहा था। कहा ये भी जा रहा था कि AAP दिल्ली वाली कहानी पंजाब में भी दोहरा सकती है। हाल के दिनों में जिस तरह से राजनीतिक घनटनाक्रम हुआ है उसके बाद लोगों और विश्लेषकों की सोच भी बदल गई है।

AAP के पंजाब प्रभारी संजय सिंह पर पैसों के घोटाले के आरोप लगे। पंजब में टिकट के बदले महिलाओं के यौन उत्पीड़न की बातें सामने आ रही हैं। खुद पार्टी के विधायक ही ये शिकायत कर रहे हैं। AAP को पंजाब में अपना संयोजक भी बदलना पड़ा। सुच्चा सिंह छोटेपुर को हटाकर हास्य कलाकर गुग्गी को संयोजक बनाया गया। लेकिन इतने से भी जब हालात काबू में नहीं आए तो वेटिकन सिटी में केजरीवाल को पंजाबी समुदाय के लोगों से बातचीत में ये कहना पड़ा कि पंजाब की कमान वो खुद अपने हाथ में ले रहे हैं। और लगातार तीन दिनों तक वो पंजाब में रहकर हालात का जायजा लेंगे।

आखिर ऐसी क्या विकट घड़ी आ गई कि केजरीवाल को अपने सभी विश्वस्त लोगों को साइड लाइन कर पंजाब में खुद सामने आना पड़ रहा है। आखिर इस खास दिलचस्पी की वजह क्या है। पंजाब में केजरीवाल की इस बढ़ती दिलचस्पी के पीछे कहा जा रहा है कि केजरीवाल दिल्ली छोड़कर पंजाब के सीएम बनना चाहते हैं। AAP के संयोजक पद से हटाए गए सुच्चा सिंह छोटेपुर से भी जब इसबारे में पूछा गया तो उन्होंने भी इसे सही बताया।

एक वजह और भी हो सकती है कि दिल्ली में AAP ने जितने वादे किये थे वो पूरे नहीं हो सके हैं। उनके विधायकों पर रेप जैसे आरोप लग चुके हैं। उनकी सीडी सामने आ चुकी है। इतनी फजीहत के बाद पार्टी अगले विधानसभा चुनाव में दिल्ली को खुद से दूर होता देख रही है। उसे ये डर सताने लगा है कि अगर दिल्ली हाथ से निकल गई तो उनका अगला ठिकाना क्या होगा। इसलिए बेहतर है कि मामला बिगड़ने से पहले ही अपने लिए एक नया ठिकाना बना लिया जाए।

-AAP Party, Delhi Chief Minister, Arvind Kejriwal, Narendra Modi

Loading...

Leave a Reply