5 वीं के छात्र ने खुदकुशी से पहले सुसाइड नोट में लिखी अपनी आखिरी इच्छा

5 वीं के छात्र ने खुदकुशी से पहले सुसाइड नोट में लिखी अपनी आखिरी इच्छा

नई दिल्ली:  गोरखपुर में सेंट एथोनीज कॉन्वेंट स्कूल में नवनीत 5वीं क्लास का इम्तिहान दे रहा था। उस किताबी इम्तिहान पर जिंदगी का इम्तिहान भारी पड़ा। क्लास टीचर ने नवनीत को जो सजा दी थी उसने दुनिया को उसके लिए बेगाना बना दिया। आखिर में नवनीत ने इस दुनिया को ही खुद से दूर कर दिया। जाते जाते बस इतना कह गया कि मेरा मैम से कहें की इतनी बड़ी सजा किसी को ना दें। ये नवनीत की आखिरी इच्छा थी।

5वीं क्लास में पढ़नेवाले नवनीत ने चंद लाइनों में अपनी जिंदगी समेट कर दुनिया को अलविदा कह दिया। पापा के नाम लिखे अपने सुसाइड नोट में नवनीत ने लिखा था ‘पापा आज 15 सितंबर मेरा पहला एग्जाम था। मेरी मैम क्लास टीचर ने मुझे सवा 9 तक रुलाया और खड़ा रखा। इसलिए क्योंकि वह चापलूसों की बात मानती हैं। उनकी किसी बात का विश्वास मत करियेगा। कल उन्होंने मुझे तीन पीरियड खड़ा रखा। आज मैंने सोच लिया है कि मैं मरने वाला हूं। मेरी आखिरी इच्छा मेरी मैम को किसी बच्चे को इतनी बड़ी सजा न देने को कहें।

अलविदा पापा-मम्मी और दीदी’

दुनिया से रुखसत होने के बाद परिवारवालों ने बताया नवनीत पढ़ने में होनहार था। गुरु का गुनगान वो अपनी कॉपी में करता रहता था। लेकिन उसी गुरु की वजह से नवनीत की जिंदगी एक पैराग्राफ के बाद खत्म हो जाएगी इसका किसी को अंदाजा नहीं था। परिजनों ने आरोपी टीचर और स्कूल के खिलाफ केस दर्ज करवाया है।

Loading...

Leave a Reply