गोड्डा में कोयला खदान धंसा, 50 मजदूर मलबे में दबे




गोड्डा/झारखंड: झारखंड के गोड्डा जिले के ललमटिया में कोयला खदान धंसने से तकरीबन 50 मजदूर दब गए। खदान के मलबे में करीब 30 जेसीबी मशीन भी दब गए हैं। हादसा गुरुवार को तकरीबन रात के 8 बजे हुआ। ECL में हुए इस हादसे में 40 से ज्यादा डंपर और 4 पे लोडर भी दब गए। ECL के इस प्रोजेक्ट में माइनिंग का काम महालक्ष्मी की तरफ से किया जा रहा था। खदान में 200 फीट की डीप माइनिंग चल रही थी। लेकिन तभी हादसा हो गया और खदान ढह गया।

खदान धंसने के बाद वहां से बाहर आने का रास्ता पूरी तरह से बंद हो गया। चुकी हादसा रात के वक्त हुआ इसलिए अंधेरे की वजह से राहत और बचाव का काम कई घंटों तक शुरु नहीं हो सका। हादसे पर ECL मैनेजमेंट कुछ भी बोलने से कतरा रहा है। स्थानीय निवासियों के मुताबिक पहाड़िया टोला में तकरीबन 6 महीने पहले ही दरार आया था। जिसके बाद मजदूरों ने वहां काम करने से मना कर दिया था।

लेकिन 27 दिसंबर को वहां सीएमडी आर आर मिश्रा ने दौरा किया था। जिसके बाद उस साइट पर दोबारा से काम शुरु कर दिया गया। यहां माइनिंग का काम करनेवाली महालक्ष्मी कंपनी और सुगदेव अर्थ मूवर्स के जीएम संजय सिंह का कहना है कि खदान में हादसे के वक्त वहां 7 गाड़ियां ही थीं।
हादसे के बाद कुछ लोग भाग्यशाली भी रहे। जिन्होंने किसी तरह अपनी जान तो बचा ली। लेकिन बुरी तरह से घायल हो गए। उनका इलाज अस्पताल में किया जा रहा है। इनके मुताबिक खदान के भीतर काफी लोग दबे हुए हैं।

Loading...

Leave a Reply