भुवनेश्वर के SUM अस्पताल में आग में झुलसकर 23 लोगों की मौत

नई दिल्ली: भुवनेश्वर में इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड SUM हॉस्पीटल के आईसीयू वार्ड में सोमवार की शाम आग लग गई। आग लगने से अबतक 23 लोगों की मौत हो चुकी है। मरनेवालों में ज्यादातर वो हैं जो इस अस्पताल में इलाज करवाने आए थे। ज्यादातर मरीजों की मौत दम घुटने से हुई। कई घंटों की मशक्कत के बाद आग पर काबू तो पा लिया गया लेकिन तबतक इस आग में 23 जिंदगी खाक हो गई। इस घटना में 50 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। जिनमें से कई की हालत गंभीर बताई जा रही है।

शुरुआती जांच में बताया जा रहा है कि ऑक्सीजन चैंबर में शॉर्ट सर्किट होने की वजह से ब्लास्ट हुआ। उसके बाद पूरे आईसीयू वार्ड में आग फैल गई। आग इतनी भयंकर थी कि कई मरीजों को वहां से बाहर निकलने तक का मौका नहीं मिला। 750 बेड वाले इस निजी अस्पताल में जब आग लगने की खबर फैली तो लोगों ने अस्पताल में लगे शीशे तोड़कर लोगों को बाहर निकाला। कई लोगों को चादर में लपेटकर बाहर निकाला गया।

अस्पताल में जिस तरह से आग लगी और देखते ही देखते दो फ्लोर में फैल गई उससे अस्पताल के इंतजामों और सरकार की जिम्मेदारी पर भी सवाल उठ रहे हैं। पूरे आईसीयू में आग फैल जाना और उसमें 23 लोगों का झुलसकर मर जाना बताता है कि अस्पताल में इस तरह के हालात से निपटने के लिए इंतजाम पूरे नहीं थे। वहीं सरकार पर भी सवाल उठ रहे हैं। जिनकी तरफ से इतने बड़े अस्पताल में सुरक्षा मानकों की जांच नहीं की गई या अगर की गई तो उसमें कोताही बरती गई।

इस घटना के बाद केंद्र सरकार भी हरकत में आई है। पीएम मोदी ने स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा से पूरे घटना की जानकारी मांगी है। पीएम ने सभी घायलों को जल्द दिल्ली के एम्स में लाने के लिए कहा है। पीएम ने ट्वीट कर घटना पर दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट किया ओडीशा के अस्पताल में लगी आग में लोगों की जान जाने से काफी दुखी हूं। यह त्रासदी दिमाग को झकझोर देने वाली है। मेरी संवेदनाएं शोकाकुल परिवारों के साथ है।

ओडिशा के स्वास्थ्य सचिव आरती आहूजा ने घटना की विभागीय जांच के आदेश दिये हैं। प्रशासन की तरफ से हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। AMRI नंबर है 0674-6666600 कैपिटल हॉस्पिटल नंबर 9439991226 है। आग लगने के बाद अस्पताल में तकरीबन 500 मरीज फंसे थे। जिन्हें खिलड़ी के शीशे तोड़कर बाहर निकाला गया। ज्यादा गंभीर मरीजों को दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया गया। अस्पताल में आग पर काबू पाने के लिए दमकल की 7 गाड़ियों को लगाया गया था।

Loading...

Leave a Reply