बीजेपी नेता के गौशाला में दो दिन में मर गई 200 गाय!

नई दिल्ली:  छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिला से हैरान कर देने वाली खबर आई है। दुर्ग जिला के राजपुर गांव में एक गौशाला में दो दिनों में 200 गायों की मौत का मामला सामने आया है। स्थानीय लोगों के मुताबिक गायों की मौत की वजह भूख और बीमारी है। ग्रामीणों का दावा है कि ना तो गायों को चारा दिया गया और ना ही बीमार गायो का इलाज करवाया गया। जिसकी वजह से उनकी मौत हुई। हलांकि अधिकारी भूख की वजह से 27 गायों की मौत की पुष्टि कर रहे हैं। इस मामले में बीजेपी नेता हरीश वर्मा को गिरफ्तार कर लिय गया है।

ग्रामीणों के मुताबिक 200 गायों की मौत हुई है। जिन्हें गौशाला के पास ही जमीन में गाड़ दिया गया है। लोगों जमीन में गाड़ी गई गायों के कंकाल देखने का भी दावा किया है। ये गौशाला बीजेपी नेता हरीश वर्मा पिछले सात सालों से संचालित कर रहे हैं। हरीश वर्मा जमूल नगर निगम के वाइस प्रेसिडेंट भी हैं।

राजपुर सरपंच के पति सेवा राम के मुताबिक उन्होंने दो दिन पहले जेसीबी मशीन को गौशाला के पास खुदाई करते हुए देखा था। जिसके बाद उन्होंने मीडिया को इसकी जानकारी दी। सेवा राम ने कहा गौशाला के पास कई बड़े बड़े गड्ढे किये गए थे। उनका दावा है कि उन गड्ढों में उन मरी हुई 200 गायों को गाड़ दिया गया है।

मौके पर मौजूद डॉक्टरों के मुताबिक गायों की मौत भूख और बीमारी की वजह से हुई है। हलांकि बीजेपी नेता हरीश वर्मा गायों की मौत के पीछे जो कारण बता रहे हैं वो हैरान करने वाला है। उनके मुताबिक गायों की मौत गौशाला की दीवार के गिरने की वजह से हुई।

लेकिन गायों की जो पोस्टमार्टम रिपोर्ट सानने आई है उसके मुताबिक उनकी मौत भूख की वजह से हुई है। दुर्ग जिले के वेटरनिटी विभाग के डिप्टी डायरेक्टर एमके चावला के मुताबिक पिछले दिनों 27 गायों का पोस्टमार्टम किया गया था। जिसमें उनकी मौत की वजह भूख थी। उन्होंने कहा 50 गायों की हालत गंभीर है जिनका इलाज किया जा रहा है। डॉक्टर के मुताबिक गायों मृत गायों की संख्या और बढ़ सकती है।

एसडीएम राजेश रात्रे के मुताबिक गायों की मौत की जांच की जा रही है। और इस बारे में विस्तृत रिपोर्ट उपायुक्त को सौंपी जाएगी। वहीं गौशाला का संचालन करने वाले बीजेपी नेता हरीश वर्मा का कहना है कि सरकार की तरफ से गायों के रख रखाव के लिए फंड नहीं दिया जाता है। दो साल से सरकार पैसों की मांग की जा रही है लेकिन फंड मुहैया नहीं कराया गया।

गौशाला का संचालन करनेवाले हरीश वर्मा ने कहा यहां केवल 220 गायों को रखने की क्षमता है। लेकिन यहां 650 से ज्यादा गाय मौजूद हैं। ज्यादा संख्या होने की वजह से उनकी देख रेख नहीं हो पाती है। सरकार के पास 10 लाख रुपये बकाया है। लेकिन अभी तक उसका भुगतान नहीं किया गया है। इस हालत में मैं गायों को चारा दे पाने में असमर्थ हूं।

Loading...

Leave a Reply