अमेरिका से दो सगे भाइयों ने WhatsApp पर हैदराबाद में अपनी पत्नियों से कह दिया तलाक तलाक तलाक

नई दिल्ली:  हैदराबाद में दो मुस्लिम महिलाओं के तलाक का मामला सामने आया है। दोनों महिलाओं के पति अमेरिका के न्यूयॉर्क में रहते हैं। और वहां से ही उन दोनों ने अपनी अपनी पत्नियों को WhatsApp और ई-मेल पर तलाक दे दिया। जिसके बाद इन दोनों महिलाओं को उनके ससुरालवालों ने घर से निकाल दिया। अपने सास-ससुर के खिलाफ दोनों महिलाओं ने थाने में शिकायत की है।

इन दोनों महिलाओं का नाम हिना फातिमा और बहरैन नूर है। इन दोनों महिलाओं ने दो सगे भाइयों से शादी की थी। शादी का कोई कानूनी दस्तावेज नहीं होने की वजह से इनके पति कह रहे हैं इस्लामिक कानून के मुताबिक इस तरह का निकाह मान्य नहीं होता है।

पीड़ित हिना फातिमा का कहना है कि उनका पति जो अमेरिका न्यूयॉर्क में रहता है रोजाना उससे अपने बच्चे का वीडियो दिखाने के लिए कहता था। फिर एक दिन अचानक WhatsApp पर ही तलाक लिखकर भेज दिया। फातिमा ने कहा उसने अपने पति से कई बार अपनी गलती के बारे में पूछा लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। फातिमा को उसके पति सैयद फयाजुद्दीन ने 6 महीने पहले WhatsApp पर तलाक दिया था। फातिमा के दो बच्चे भी हैं।

फातिमा का मामला तब सामने आया है जब सुप्रीम की तरफ से बड़े बेंच में ट्रिपल तलाक के कानूनी पहलुओं पर गौर करने का मामला सौंपा गया है।

बहरैन नूर का मामला भी कुछ इसी तरह का है। 2015 में बहरैन की शादी फैयजुद्दीन के भाई उस्मान कुरैशी के साथ हुई थी। शादी के कुछ दिनों बाद उस्मान अमेरिका चला गया। लेकिन फरवरी में उस्मान की तरफ से WhatsApp पर तलाक तलाक तलाक लिखकर बहरैन को भेज दिया गया। जिसके बाद ससुरालवालों ने बहरैन को घर से निकाल दिया।

अब दोनों पीड़ित महिलाएं साथ मिलकर इस मनमाने तलाक के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ने का मन बना चुकी हैं। उन्होंने इसे लेकर थाने में शिकायत भी दर्ज करवाई है। वहीं इस मामले पर दोनों महिलाओं के ससुर अब्दुल हाफिज का कहना है कि न्यूयॉर्क में रहते हुए उनके बेटों ने जो किया है उसमें वो कुछ नहीं कर सकते।

इस मामले में साउथ जोन के डीसीपी वी. सत्यनारायण ने कहा कि उन्होंने अब्दुल हाफिज से कहा है कि वो अपनी बहुओं को इस तरह से घर से बाहर नहीं निकाल सकते। साथ ही ये भी कहा है कि वो अपनी बहुओं का साथ दें।

Loading...

Leave a Reply