7000 चीनियों की सुरक्षा के लिए 15000 पाकिस्तानी सैनिक तैनात

दिल्ली: चीन के लिए कुछ भी करेगा। इसी तर्ज पर पाकिस्तानी सैनिकों को चीनियों की सुरक्षा में लगाया गया है। पाकिस्तान की तरफ से चीनियों को मुहैया कराई गई इस सुरक्षा की संजीदगी का अंजादा इसी से लगाया जा सकता है कि एक चीनी नागरिक की सुरक्षा के लिए पाकिस्तान के 2 सैनिकों को लगाया गया है। सुरक्षा का ये पूरा तामझाम उस इकोनॉमिक कॉरिडोर को तैयार करने के लिए किया गया है जिसका विरोध भारत करता रहा है। पाकिस्तान के भीतर भी इस इकोनॉमिक कॉरिडोर का विरोध हो रहा है। बलूचिस्तान में इसका सबसे ज्यादा विरोध हो रहा है। जिससे चीनियों को सुरक्षित रखने के लिए सुरक्षा के ये इंतजाम किये गए हैं।

इस कॉरिडोर को नुकसान पहुंचाने के लिए कई बार हमले हो चुके हैं। चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर यानि CPEC के निर्माण में लगे चीनियों की सुरक्षा के लिए तैनात पाकिस्तानी सेना के बारे में पाक असेंबली में जानकारी दी गई। जिसके मुताबिक पंजाब में 6364 पाकिस्तानी जवान चीन के 7036 नागरिकों की सुरक्षा के लिए नियुक्त हैं। बलूचिस्तान में 3134, सिंध में 2654, खैबर पख्तूनख्वाह इलाके में 1912 और इस्लामाबाद में 439 जवानों की तैनाती की गई है।

CPEC को सबसे ज्यादा खतरा बलूच राष्ट्रवादियों से है। हलांकी तालिबान से समर्थन वाले ग्रुप भी यहां चीनी नागरिकों पर हमला कर चुके हैं। CPEC तकरीबन 2000 किलोमीटर दायरे में फैला है। इसके तैयार होने के बाद चीन में काशगर से बलूचिस्तान में ग्वादर पोर्ट सीधे तौर पर जुड़ जाएगा।

-China, Pakistan Army, Balochistan, Islamabad, CPEC, Baloch nationalists, Taliban

Loading...