दिल्ली में डीलरों के 1000 करोड़ के व्यवसाय पर संकट

दिल्ली में डीलरों के 1000 करोड़ के व्यवसाय पर संकट

साल 2015 का आखिरी महीना खाली रह जाएगा ?

दिल्ली में 6 दिसंबर तक नहीं होगा डीजल गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन

नेशनल ग्रीन ट्रीब्यूनल यानि NGT ने 6 जनवरी 2016 तक के लिए डीजल गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन पर रोक लगा दी है। NGT ने ये आदेश दिल्ली में विकराल होते प्रदूषण की समस्या की वजह से दी। लेकिन इस आदेश और इस रोक ने दिल्ली के उन डीलरों की चिंता बढ़ा दी है जो डीजल की गाड़ियां बेचते हैं औऱ जिन्होंने दिसंबर महीने में बड़ी तादाद में गाड़ियों की बिक्री की योजना बना रखी थी। एक अनुमान के मुताबिक NGT के इस आदेश से तकरीब 1000 करोड़ रुपये के कारोबार पर असर पड़ने की संभावना है।

रजिस्ट्रेशन पर रोक का क्या होगा असर ?

1000 करोड़ रुपये की डीजल गाड़ियां शो रुम में ही खड़ी रहेंगी

10000-12000 गाड़ियों कम बिकेंगी

दिल्ली में तकरीबन 36 फीसदी डीजल कार, 89 फीसदी एसयूवी और 19 फीसदी डीजल वैन की बिक्री होती है

दिसंबर में तरह-तरह के डिस्काउंट की वजह से ज्यादा गाड़ियों की बिक्री होती है

महिंद्रा एंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स, टोयोटा, फोर्ड, बीएमडब्लू, और ऑडी जैसी कंपनियों कारों एसयूवी पर ज्यादा असर। क्योंकि इनकी ज्यादातर गाड़ियां डीजल से चलती हैं।

पहले से अपनी गाड़ी बुक करवा चुके ग्राहक पशोपेश में हैं

कुछ ग्राहक दिल्ली के बजाय एनसीआर से गाड़ी खरीदने और वहीं रजिस्ट्रेशन कराने का मन बना रहे हैं।

कुछ ग्राहक डीजल की जगह पेट्रोल गाड़ी खरीदने का प्लान बना रहे हैं

Loading...

Leave a Reply