सुपौल: अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं मिलने से बुजुर्ग महिला की मौत, CS ने किया इनकार

प्रियांशु आनंद/सुपौल
सुपौल/बिहार: सरकार द्वारा सरकारी अस्पतालों में आये दिन नए नए सुविधाओं के बारे में बताया जाता है। मगर किसी सुविधा की कमी से आये दिन घटनाएं होती हैं। सुपौल सदर अस्पताल में देर रात ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं होने की वजह से एक बुजुर्ग महिला की मौत हो गयी। ये आरोप परिजनों की तरफ से लगाया गया है। अस्पताल की लापरवाही से हुई इस मौत के बाद परिजनों ने बुजुर्ग महिला के शव को अस्पताल परिषर के रास्ते पर रख कर खूब   हंगामा किया।
मौके पर पहुंची पुलिस को परिजनों को समझाने बुझाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। तब जाकर मामला हुआ शांत । सदर थाना के अमठो पुनर्वास के पीड़ित परिजन ने बताया कि रात में मृतक को दर्द होने के वजह से अस्पताल लाया गया। डॉक्टर द्वारा उन्हें बेड पर सुला कर जब ऑक्सीजन लगाया गया तब पता चला कि सिलिंडर में ऑक्सीजन है ही नहीं।
उसके बाद जब परिजनों को इस बात का शक हुआ कि सिलिंडर में ऑक्सीजन है ही नहीं तो इलाज करनेवाले डॉक्टर की तरफ से कहा गया  ‘यहां कोई डॉक्टर नहीं है। जाओ जहां ले जाना है ले जाओ।’
क्या कहते है सीएस सुपौल
हमारे संवादाता ने टेलीफोन पर सुपौल सिविल सर्जन से जब इस मामले पर बात की तो उन्होंने साफ इनकार कर दिया कि सुपौल सदर अस्पताल में इस तरह की कोई घटना हुई है। उन्होंने कहा कि ये सहरसा की घटना है ना कि सुपौल की।
अस्पताल के सिविल सर्जन अस्पताल में मौत जैसी किसी घटना से इनकार कर रहे हैं। लेकिन मरीज के परिजन जिस जगह पर लापरवाही की पूरी कहानी बता रहे हैं उसके पीछे एक बोर्ड लगा है जिसपर साफ तौर पर देखा जा सकता है कि सुपौल लिखा हुआ है। अब सवाल ये उठ रहा है कि आखिर सिविल सर्जन सच को स्वीकार करने से इनकार क्यों कर रहे हैं।
Loading...