narender-modi-and-mayawati

मायावती ने पीएम मोदी की कुंभकर्ण से की तुलना, गौरक्षकों पर दिये बयान को बताया राजनीति

मायावती ने पीएम मोदी की कुंभकर्ण से की तुलना, गौरक्षकों पर दिये बयान को बताया राजनीति

दिल्ली: बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने प्रधानमंत्री मोदी की तुलना कुंभकर्ण से की है। मायावती ने कहा कि दो साल से दलियों और मुस्लिमों को निशाना बनाया जा रहा है और प्रधानमंत्री मोदी कुंभकर्ण की तरह सो रहे थे।

मायावती ने गौरक्षकों पर दिये पीएम मोदी के बयान को राजनीति से प्रेरित बताते हुए कहा ‘अब वे कुंभकर्णी नींद से इसलिए जागे हैं क्योंकि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक आ गए हैं।‘

पीएम मोदी ने लगातार दो दिनों में दो बार गौरक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की बात कही थी। दिल्ली के टाउनहॉल कार्यक्रम में मोदी ने राज्य सरकारों से अपील की थी कि वो गौरक्षकों का डॉजियर तैयार तैयार करें। क्योंकि 70 से 80 फीसदी गौरक्षक गोरखधंधा करते हैं। अपने गुनाहों को छुपाने के लिए वो गौरक्षक का चोला पहन लेते हैं। इसके ठीक अगले दिन यानि रविवार को पीएम ने तेलंगाना की एक रैली में कहा कि असली और नकली गौरक्षकों की पहचान की जाए। उन्होंने कहा ‘दलित भाइयों पर क्यों हमला करते हो हमला करना ही है तो मुझपर हमला करो।‘

पीएम के इस बयान को बीएसपी समेत तमाम विरोधी पार्टियों ने राजनीति से प्रेरित बताया। वहीं दलित नेता और मोदी कैबिनेट में राज्य मंत्री रामदास अठावले ने मोदी के बयान की तारीफ करते हुए कहा ‘पहले कहते थे पीएम बयान नहीं देते, अब कह रहे हैं देर से बयान दे रहे हैं, पीएम के बयान पर विपक्ष की राजनीति सही नहीं है।‘

पीएम के बयान पर सवाल इसकी टाइमिंग को लेकर उठाए जा रहे हैं। गुजरात के उना में दलितों की पिटाई के बाद राज्य सरकार की काफी किरकिरी हुई। सियासी दलों को इसमें गुजरात की बीजेपी सरकार पर हमला करने का मौका मिल गया। हमले किये भी गए। बीजेपी को दलित विरोधी पार्टी के तौर पर पेश किया गया। पार्टी को भी एहसास हुआ कि अगर इसपर जल्द कुछ नहीं किया गया तो खेल बिगड़ सकता है। क्योंकि यूपी में तकरीबन 19 फीसदी दलित वोटर हैं। जबकि गुजरात में भी दलित वोटबैंक अपना दबदबा रखता है।

Loading...

Leave a Reply