जानिये इसबार मन की बात में पीएम मोदी ने क्या कहा?

दिल्ली:  मन की बात बताने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिल देशवासियों के बीच थे। प्रधानमंत्री ने इसबार रियो ओलंपिक से मन की बात की शुरुआत की और जम्मू कश्मीर में चिंताजनक हालात पर उसकी समाप्ति की।

पीएम मोदी ने मन की बात में कहा कि इसबार हॉकी के जादूगर ध्यानचंद का जन्मदिन खेल दिवस के रुप में मनाया जाएगा

mygov.in पर कई लोगों ने रियो ओलंपिक और साक्षी, सिंधु के बारे में बोलने के लिए कहा

हमारी बेटियों ने एक बार फिर साबित कर दिया कि वो किसी भी तरह से किसी से कम नहीं हैं।

हमारी आशा के अनुरुप हम रियो में प्रदर्शन नहीं कर पाए

फिर भी देश ने कई खेलों में शानदार प्रदर्शन किया और सकारात्मक माहौल बनाया

खेल प्रदर्शन में सुधार के लिए कमिटि की घोषणा की गई है

2020,2024,2028 ओलंपिक के लिए दूर की सोच के साथ योजना बनानी है

मैं राज्य सरकारों से आग्रह करता हूं कि ऐसी कमिटियां बनाएं

देश के हर नागरिक से सुझाव भेजने का आग्रह करता हूं

5 सितंबर शिक्षक दिवस है, कई वर्षों से मैं शिक्षक दिवस पर विद्यार्थियों के साथ काफी वक्त बिताता रहा हूं

मेरे लिए 5 सितंबर शिक्षक दिवस भी था और शिक्षा दिवस भी था

लेकिन इसबार मुझे G-20 समिट के लिए जाना पड़ रहा है

जीवन में जितना मां का स्थान होता है उतना ही शिक्षक का स्थान होता है

पुलेला गोपीचंद जी को एक खिलाड़ी से अतिरिक्त एक उत्तम शिक्षक के रुप में देख रहा हूं

मेरे एक शिक्षक 90 साल के हैं आज भी हर महीने उनकी चिट्ठी आती है

महीने भर मैंने क्या किया, उनकी नजर में वो ठीक था, नहीं था, जैसे आज भी मुझे क्लास रूम में पढ़ाते हों

कुछ ही दिनों में गणेश उत्सव आनेवाला है

अब सिर्फ महाराष्ट्र नहीं पूरे देश में गणेश उत्सव होने लगा है

सुराज हमारी प्राथमिकता हो, इस मंत्र के साथ हम गणेश उत्सव का संदेश नहीं दे सकते हैं क्या?

गांव के तालाब की मिट्टी से बने गणेश जी का उपयोग करें

हम मिट्टी का उपयोग करके गणेश, दुर्गा की मूर्तियां बनाकर हम उस पुरानी परंपरा पर वापस जाएं

भारत रत्न मदर टेरेसा को 4 सितंबर को संत की उपाधी से विभूषित किया जाएगा

मदर टेरेसा ने अपना पूरा जीवन भारत में गरीबों की सेवा में लगाया था

15 जुलाई को छत्तीसगढ़ के करीबधाम जिले में 1700 से ज्यादा स्कूलों के सवा लाख विद्यार्थियों ने अपने माता पिता को चिट्ठी लिखी

उन्होंने लिखा हमारे घर में टॉयलेट होना चाहिए

कर्नाटक के कोप्पाल जिले में 16 साल की एक बेटी माल्लम्मा ने सत्याग्रह कर टॉयलेट बनवाया

आप 2-3 मिनट की स्वच्छता की फिल्म बनाइये, ये शॉर्ट फिल्म भारत सरकार को भेज दीजिये

टीवी चैनल वाले भी ऐसी फिल्मों के लिए आह्वान कर स्पर्धा कराएं

मोबाइल फोन के कैमरा से भी आप फिल्म बना सकते हैं

पिछले वर्ष हम अकाल को लेकर परेशान थे लकिन ये अगस्त का महीना बाढ़ की कठिनाइयों से भरा है

घोर राजनीतिक विरोध रखनेवाले दलों ने मिल कर जीएसटी का कानून पारित किया, इसका क्रेडिट भी सभी दलों को जाता है

कश्मीर में जो कुछ भी हुआ, उसके संबंध में देश के सभी राजनीतिक दलों ने मिलकर एक स्वर में  कश्मीर की बात रखी

गांव के प्रधान से लेकर प्रधानमंत्री तक का मत है कि कश्मीर में अगर नौजवान या सुरक्षाकर्मी की जान जाती है तो ये नुकसान अपने देश का ही है

जो लोग छोटे-छोटे बच्चों को आगे कर कश्मीर में अशांति पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं उन्हें जवाब देना पड़ेगा

विविधताओं से बंधे देश को एकता के बंधन में रखना सबका दायित्व है

कश्मीर के संबंध में मेरा सभी दलों से जितनी चर्चा हुई,उससे एक बात जागृत होती है कि एकता और ममता ही मूल मंत्र है

Loading...

Leave a Reply