BILKIS- BANO

गुजरात के बिलकिस बानो केस में दोषियों की सजा बरकरार, बॉम्बे हाईकोर्ट ने सुनाया फैसला

गुजरात के बिलकिस बानो केस में दोषियों की सजा बरकरार, बॉम्बे हाईकोर्ट ने सुनाया फैसला

मुंबई:  बहुचर्चित बिलकिस बानो केस में बॉम्बे हाईकोर्ट से भी दोषियों को कोई राहत नहीं मिली है। इस मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए 11 दोषियों की अपील खारिज कर दी है। और नीचली अदालत के फैसले को बरकरार रखा है। नीचली अदालत ने इन्हें उम्र कैद की सजा सुनाई थी। बॉम्बे हाईकोर्ट में सीबीआई की उस पील को भी ठुकरा दी गई जिसमें कुछ आरोपियों को फांसी देने की अपील की थी।

3 मार्च 2002 के गोधरा दंगों के बाद 17 लोगों ने अहमदाबाद में बिलकिस बानो के घर पर हमला कर दिया था। ये हमला अहमदाबाद के रंधिकपुर में किया गया था। इसमें बिलकिस बानो के परिवार के 14 लोगों की हत्या कर दी गई थी। उस वक्त बिलकिस बानो की उम्र महज 19 साल की थी। बिलकिस तब गर्भवती भी थी। बिलकिस के साथ गैंगरेप भी किया गया था।

इस मामले में 21 जनवरी 2008 को मुंबई की कोर्ट ने 11 लोगों को मर्डर और गैंगरेप का दोषी माना था। इस मामले में ट्रायल कोर्ट की तरफ से सभी आरोपियों को उम्र कैद की सजा सुनाई गई थी। इसके बाद सभी दोषियों ने बॉम्बे हाईकोर्ट में अपील की थी।

Loading...

Leave a Reply