गर्भवती महिला का सेक्स से इनकार करना क्रूरता नहीं- दिल्ली हाईकोर्ट

नई दिल्ली:  दिल्ली हाईकोर्ट ने तलाक के एक मामले में अहम फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कहा है अगर गर्भवती महिला सेक्स से इनकार करती है तो उसे क्रूरता नहीं माना जा सकता। साथ ही कोर्ट ने कहा कि ये कारण किसी हालत में तलाक का आधार नहीं हो सकता है।

कोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए कहा यदि पत्नी सुबह देर से जगती है, बेड पर ही चाय मांगती है तो यह क्रूरता नहीं बल्कि आलस्य है। दरअसल फैमिली कोर्ट में एक युवक ने इसके पीछे क्रूरता को आधार बताकर तलाक की याचिका दायर की थी। लेकिन कोर्ट ने इसे खारिज कर दिया।

हाईकोर्ट की दो जजों की बेंच ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए कहा गर्भ में भ्रूण के लिए महिला को सेक्स से जाहिर तौर पर परेशानी होगी। ये पति पर की गई क्रूरता नहीं है।

 

Loading...

Leave a Reply